Sunday, Nov 28, 2021
-->
murder-of-a-friend-for-money

फिल्म दिखाने के बहाने दोस्त को अगवा कर की हत्या, नहर में फेंका शव

  • Updated on 9/6/2018

नई दिल्ली/नवोदय टाइम्स। पैसे की चाहत में फिल्म दिखाने के बहाने पड़ोस में रहने वाले शिवम ने अपने दोस्त दीपक को अगवा कर लिया। फिर दोस्तों के साथ मिलकर दीपक के साढ़े चार लाख लूटने के लिए गला दबा हत्या कर दी। शव को ठिकाने लगाने के लिए अलीगढ़ की एक नहर में फेंक दिया। फिर साढ़े चार लाख रुपए लूट दीपक की हत्या कर दी। हत्या के बाद शिवम अपने दोस्तों के साथ वापस जैतपुर वापस आ गया।

काफी तलाश के बाद भी जब दीपक का पता नहीं चला,तब परिजनों ने पुलिस में शिकायत दी। हालांकि पुलिस आरोपियों तक पहुंचती उससे पहले ही परिजनों ने शक के आधार पर तीन आरोपियों को पकड़ पुलिस के हवाले कर दिया। पहले तो आरोपी हत्या की बात से इंकार करते रहे। लेकिन बाद में हत्या व लूट की बात कबूल कर ली। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए हत्या व लूट मामले में पांचों आरोपी शिवम, सुमित, हीरालाल, कृष्ण और मुकिम को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से लूट की रकम और दीपक का मोबाइल भी बरामद हो गया है। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया है।

 अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में हुए दो बड़े बम धमाके, 20 लोगों की मौत

पुलिस अधिकारी के मुताबिक रमाशंकर अपने परिवार के साथ जेजे कॉलोनी मदनपुर खादर इलाके में रहता है। उनका दूध का कारोबार है। परिवार में पत्नी सुशीला ,तीन बेटे दीपक संजू और सुल्तान और एक बेटी है। दीपक पिता के साथ ही दूध का कारोबार करता है। नवम्बर 2016 में दीपक की शादी कौशल्या से हुई थी। कौशल्या मुबंई में टीवाई से बीकॉम का कोर्स कर रही है। 

रास्ते में हो गया गाड़ी का तेल खत्म, ऑटो चालक से मंगवाया तेल: कार में बैठने के कुछ देर बाद ही तीनों आरोपियों ने मिलकर दीपक की गला दबाकर हत्या कर दी। उसके बाद उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए ले जाने लगे। लेकिन रास्ते में उनकी गाड़ी का तेल खत्म हो गया। 

Google, Apple समेत ये बड़ी कंपनियां बिना डिग्री मांगे ही देंगी लाखों में सैलरी

शिवम को पता था दीपक जाता है बैंक में पैसे जमा करने

पूछताछ में पता चला कि मुख्य आरोपी शिवम को पता था कि दीपक के पास हमेशा काफी पैसे होते हैं। वह अकसर दूध के कारोबार का पैसा जमा करने के लिए बैंक जाता था। इसलिए उसने अपने दोस्तों के साथ मिलकर दीपक की हत्या व लूट की योजना बनाई। योजना के तहत 3 सितंबर को दोपहर दो बजे दीपक जैसे ही साढ़े चार लाख रुपए लेकर बैंक में जमा करने के लिए जा रहा था। तभी शिवम उसे रास्ते में मिल गया और फिल्म देखने चलने को कहने लगा। लेकिन दीपक ने पैसा जमा करने की बात कह मना कर दिया। लेकिन शिवम ने कहा कि पहले बैंक में पैसा जमा करेंगे फिर फिल्म देखने चलेंगे। इस बात पर दीपक राजी हो गया। दीपक शिवम और उसके साथियों के साथ कार में बैठ गया। शिवम के साथ कार में सुमित और मुकीम बैठे थे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.