Tuesday, Dec 06, 2022
-->
Pilgrims on their journey to Badrinath Dham will not be able to bathe in Tapta Kund prshnt

बद्रीनाथ धाम की यात्रा पर तीर्थयात्री तप्त कुंड में नहीं कर सकेंगे स्नान

  • Updated on 6/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बदरीनाथ धाम की तीर्थयात्रा पर आने वाले तीर्थयात्री इस बार तप्त कुंड में स्नान नहीं कर सकेंगे। कोरोना संक्रमण के चलते निर्धारित तिथि के परिवर्तन और सीमित लोगों की मौजूदगी में धाम के कपाट खुलने के बाद अब यह एक नया तथ्य धाम के इतिहास से जुड़ेगा। हालांकि प्रशासन की ओर से यहां स्नान के लिये अन्य व्यवस्था बनाने की बात कही जा रही है।

सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 15 दिनों में घर भेजे जाएं प्रवासी मजदूर, 24 घंटे में ट्रेन दे केंद्र

कुंडों में स्नान की मान्यता
बदरीनाथ धाम में मंदिर के ठीक नीचे स्थित गर्म जल के दो कुंड हैं। जिन्हें सुविधा के अनुसार महिला और पुरुषों के लिये अलग-अलग बनाया गया है। ऐसे में बदरीनाथ धाम की यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्री सर्दियों में भगवान बदरीनाथ के दर्शनों से पूर्व इन कुंडों में स्नान करते हैं। कुंड में स्नान को लेकर जहां धार्मिक मान्यताओं में महत्वपूर्ण बताया गया है।

विश्व बैंक का अनुमान, वित्त वर्ष 2020-21 में 3.2% घट जाएगी भारत की जीडीपी

स्नान से चर्म रोग दूर होने की संभावना
वहीं गंधक के पर्वत से होकर बहने से गर्म हुए, इस जल के स्नान से चर्म रोगों की निदान की बात विज्ञान के मतावलम्बी भी मानते हैं। लेकिन इस वर्ष देश और दुनिया में कोरोना संक्रमण के चलते यहां तप्त कुंडों को खाली रखा गया है। वहीं यात्रा शुरू होने पर भी शारीरिक दूरी बनाये रखने के लिये स्नान की अनुमति न देने की बात कही जा रही है।

हालांकि प्रशासन की ओर से तप्त कुंड की धाराओं बाल्टियों की व्यवस्था कर स्नान की व्यवस्था बनाई जा रही है। लेकिन ऐसे में महिला तीर्थयात्रियों के स्नान को लेकर खासी दिक्कतें होंगी।

बदरीनाथ धाम की यात्रा को लेकर जिलाधिकारी की अध्यक्षा में बैठक होगी है। जिसमें यात्रा व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा की जाएगी। हालांकि सभी व्यवस्थाओं को शारीरिक दूरी को ध्यान में रखते ही लागू किया जाएगा।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

comments

.
.
.
.
.