Thursday, Feb 09, 2023
-->
Privatization nor outsourcing, old pension should be restored in Railways: Shiv Gopal Mishra

निजीकरण ना आउटसोर्सिंग, रेलवे में बहाल हो पुरानी पेंशन: शिव गोपाल मिश्रा

  • Updated on 10/12/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। रेलवे निजीकरण के खिलाफ और पुरानी पेंशन योजना बहाली की मांग को लेकर आज देश भर में अलग-अलग डिवीजन कार्यालय में विरोध प्रदर्शन व एक दिवसीय भूख हड़ताल का आयोजन किया गया। 
ऑल इंडिया रेलवे मेन्स फेडरेशन (एआईआरएफ)  के पदाधिकारियों ने नई दिल्ली में मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय पर भी भूख हड़ताल की।
 दिल्ली मंडल द्वारा आयोजित एक सभा को सबोधित करते हुए महामंत्री एआईआरएफ शिव गोपाल मिश्र ने कहा कि आज देश भर में एआईआरएफ की कार्यसमिति में लिये गये निर्णयानुसार ‘एक दिवसीय भूख हडताल‘ का आयोजन किया गया है जिनमे प्रमुख रूप से रेलवे को निजीकरण एवं निगमीकरण से बचाना, पुरानी पेंशन योजना की बहाली, रेलवे के रिक्त पदों को भरना, कैडर रीस्ट्रचरिंग का समय से होना, ट्रैक मेन्टेनर, एस एड टी स्टाफ और अन्य तकनीकी कर्मचारियों की पदोन्नति तथा अन्य काफी समय से लम्बित रेलकर्मियो की मांग शामिल है। 
उन्होंने कहा कि सरकार मजदूर विरोधी नीतियाॅ अपनाकर रेलवे और रेलकर्मियों पर ध्यान नही दे रही हैं बार-बार रेलमंत्री द्वारा आशवासन दिये जाने कि रेलो का निजीकरण नही होगा, फिर भी स्टेशनो और रेलवे की परिसम्पत्तियों का निजीकरण और आउटसोर्सिग की जा रही है। जो कि रेल कर्मियों के साथ विष्वासघात हैं। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि एआईआरएफ के रहतेे हम एैसा कदापि नही होने देगे। शिवगोपाल मिश्रा ने बताया कि कर्मचारियों की सामाजिक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कई राज्यों ने अपने कर्मचारियों की पुरानी पेंषन योजना की बहाली कर दी है वहीं केन्द्र सरकार अपने कर्मचारियों की पुरानी पेंशन योजना की बहाली  के लिए सोच भी नही रही हैं जो कि युवा कर्मचारियों की जिन्दगी ओर उनके परिवार के साथ खिलवाड है। 
उन्होंने बताया कि रेलकर्मियो का समय से पदोन्नति नही हो रहा है, कैडर रीस्ट्रचरिंग समय से नही हो रहा है, रेलवे में रिक्त पदों पर भर्तिया नही की जा रही है जिससे कर्मचारी कई गुना काम के बोझ के तले दबे और और भारी मानसिक तनाव में जी रहे है। उन्होने बताया आज देंष भर में हजारों की संख्या में रेल कर्मचारी एआईआरएफ के संबद्ध यूनियनो के बैनर तले इन्ही सब मांगों को लेकर अपने-अपने मुख्यालयों और प्रषासनिक कार्यालयों पर भूख हडताल पर बैठे है और अपना रोश व्यक्त कर रहे है। 
मंडल मंत्री दिल्ली कामरेड अनूप शर्मा ने बताया कि अगर सरकार रेल कर्मचारियों की मांगो को अभी भी अनदेखा करती है तो आगे भीषण संघर्ष के लिए तैयार रहे, क्योकि अब रेल कर्मचारी चुप नही बैठने वाले है। दिल्ली मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय पर आयोजित सभा को केन्द्रीय अध्यक्ष  एस के त्यागी, मंडल मंत्री दिल्ली  सहायक महामंत्री मोहम्मद रफीक के अलावा तमाम पदाधिकारियों ने संबोधित किया और भूख हडताल पर बैठेे कर्मचारियों की हौसला हफजाई करते हुए सरकार से कर्मचारियों की लम्बित मांगों को तत्काल मांगे जाने की अपील की।

comments

.
.
.
.
.