Thursday, Jun 24, 2021
-->
Punjab farmers warn Modi BJP government about goods trains farmers protests rkdsnt

पंजाब के किसानों ने मालगाड़ियों को लेकर मोदी सरकार को चेताया

  • Updated on 11/18/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब के विभिन्न किसान संगठनों ने बुधवार को भाजपा नीत केंद्र सरकार के ‘अडिय़ल’ रवैये की निंदा करते हुए कहा कि केंद्र पहले मालगाडिय़ों का परिचालन शुरू करे इसके बाद वे यात्री रेलगाडिय़ों को चलने देने पर विचार करेंगे। मीडिया से यहां बात करते हुए किसान नेताओं ने जोर देकर कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ उनका प्रदर्शन जारी रहेगा। किसान नेता रुलदू सिंह ने कहा, ‘‘ केंद्र ने पंजाब और यहां के किसानों, कारोबारियों और श्रमिकों के खिलाफ अडिय़ल रवैया अपनाया है और हम केंद्र सरकार के इस रुख की निंदा करते हैं।’’  

सुदर्शन टीवी मामले से दिल्ली हाई कोर्ट ने खुद को किया अलग

उन्होंने कहा कि राज्य में मालगाडिय़ों का परिचालन रोके हुए करीब एक महीने का समय हो गया है। पंजाब किसान यूनियन के नेता सिंह ने कहा, ‘‘केंद्र सरकार को पहले मालगाडिय़ों का परिचालन शुरू करना चाहिए और उसके बाद हम यात्री गाडिय़ों के परिचालन पर आपात बैठक कर फैसला करेंगे।’’ उन्होंने जोर देकर कहा, ‘‘अगर केंद्र मालगाडिय़ों का परिचालन शुरू करता है तो हम यात्री गाडिय़ों के बारे में सोचेंगे।’’ 

मेवालाल चौधरी को मंत्री बनाए जाने पर तेजस्वी ने नीतीश पर साधा निशाना

उल्लेखनीय है कि रेलवे ने पंजाब में मालगाडिय़ों के परिचालन को बहाल करने से इनकार कर दिया है। रेलवे का कहना है कि या तो वह मालगाड़ी और यात्री गाड़ी दोनों का परिचालन करेगा या फिर किसी का भी परिचालन नहीं करेगा। किसानों ने दिल्ली में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्य राज्यमंत्री सोम प्रकाश के साथ हुई बैठक बेनतीजा रहने के कई दिन बाद यह बैठक की। 

सिंह ने कहा कि केंद्र के अडिय़ल रवैये की वजह से किसान, कारोबारी और श्रमिक बुरी तरह से प्रभावित हुए है। उन्होंने आगे कहा कि करीब 30 किसान संगठनों के प्रतिनिधि कृषि कानूनों के खिलाफ 26 और 27 नवंबर को दिल्ली प्रदर्शन करने के लिए ट्रैक्टर से जाने को तैयार हैं। उन्होंने बताया, ‘‘लाखों किसान ट्रैक्टर से दिल्ली जाने को तैयार हैं। कोरोना वायरस महामारी के चलते दिल्ली में विरोध प्रदर्शन की अनुमति नहीं देने पर उन्होंने कहा कि यह ‘बहाना’ है। सिंह ने कहा, ‘‘वे अनुमति दें या नहीं, हम दिल्ली जाने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।’’ 

अवमानना कार्यवाही के खिलाफ महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट  

उल्लेखनीय है कि ‘दिल्ली चलो’ प्रदर्शन का आह्वान पूरे देश के 200 किसान संगठनों के मंच ‘ अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने किया है। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि किसान राज्य में भाजपा नेताओं के घर के सामने प्रदर्शन कर रहे हैं। उनसे पूछा गया कि क्या वह भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का भी घेराव करेंगे अगर वह पंजाब आते हैं? इस पर सिंह ने कहा कि वे निश्चित रूप से ऐसा करेंगे। 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.