Monday, Sep 26, 2022
-->
Rishi Aggarwal, accused in bank loan scam, has been remanded for four days

बैंक  लोन घोटाले में आरोपी ऋषि अग्रवाल को चार दिन की रिमांड

  • Updated on 9/23/2022

बैंक  लोन घोटाले में आरोपी ऋषि अग्रवाल को चार दिन की रिमांड 
एबीजी शिपयार्ड के पूर्व प्रमोटर देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले में हैं आरोपी 

नई दिल्ली 22 सितंबर (नवोदय टाइम्स): राउज एवेन्यू स्थित विशेष न्यायाधीश भूपिंदर सिंह की अदालत ने एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड के पूर्व प्रमोटर ऋषि अग्रवाल को 22 हजार करोड़ रुपये से अधिक के सबसे बड़े बैंक लोन घोटाले के मामले में अदालत ने चार दिनों के लिए रिमांड पर सौंपा है।

अदालत ने आरोपी को सीबीआई रिमांड पर देते हुए कह मामले में शामिल राशि अपराध की गंभीरता को दर्शाती है। अदालत जांच अधिकारी को आरोपी से पूछताछ से वंचित नहीं कर सकता है। 
सीबीआई के लोक अभियोजक ने कहा कि ऋषि अग्रवाल जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं, इसलिए सीबीआई को आरोपी की सात दिनों की हिरासत की आवश्यकता है।

रिंकू गर्ग व ऋषि अग्रवाल की तरफ से पेश हुए अधिवक्ता विजय अग्रवाल ने सीबीआई के रिमांड आवेदन का विरोध किया और कहा कि अदालत के पास इस मामले को तय करने के लिए आवश्यक अधिकार क्षेत्र नहीं है क्योंकि लोक सेवक की संलिप्तता का कोई आरोप नहीं है, यहां तक कि दायर शिकायत में भी।

भारतीय स्टेट बैंक ने स्वयं उल्लेख किया है कि ई-एसएपी की रिपोर्ट के अनुसार कोई कर्मचारी जवाबदेह नहीं पाया गया है। ऐसे में भ्रष्टाचार रोकथाम अधिनियम के प्रावधानों में दर्ज की गई एफआईआर निराधार है। अदालत ने कहा कि जांच एजेंसी की तफ्तीश के बाद ही अन्य लोगों की भूमिका सामने आएगी।

शिकायत के अनुसार, मेसर्स एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड और उसके निदेशकों ने 28 बैंकों के संघ को धोखा दिया है। आईसीआईसीआई बैंक के नेतृत्व में 22, 842 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई। लोक अभियोजक की तरफ से कहा गया कि मैसर्स एबीजी शिपयार्ड लिमिटेड द्वारा अपनी पार्टियों को भारी मात्रा में राशी ट्रांस्फर की गई और बाद में समायोजन प्रविष्टियां की गईं।
 

comments

.
.
.
.
.