Wednesday, Oct 16, 2019
Tax collection goverment tax collection

सरकार का कर संग्रह इस वर्ष लक्ष्य से काफी पीछे रहा

  • Updated on 9/19/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सरकार का कर संग्रह उसके तय लक्ष्य से काफी पीछे चल रहा है। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल से 17 सितंबर की अवधि में सरकार का प्रत्यक्ष कर संग्रह 4.7 प्रतिशत बढ़कर 5.50 लाख करोड़ रुपये रहा है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 5.25 लाख करोड़ रुपये रहा था। हालांकि, पूरे वित्त वर्ष के लिये सरकार ने कर संग्रह में 17.5 प्रतिशत वृद्धि का लक्ष्य रखा है।     

केरल में अब कैदी चलाएंगे पेट्रोल पंप

कर संग्रह उम्मीद से कम रहने की वजह मांग में गिरावट और कुल वृद्धि में कमी है। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर घटकर पांच प्रतिशत पर आ गई है जो इसका छह साल का निचला स्तर है। कर विभाग के सूत्रों ने बताया कि 5.50 लाख करोड़ रुपये के कर संग्रह में से अग्रिम कर संग्रह 7.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 2.20 लाख करोड़ रुपये रहा है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 2.05 लाख करोड़ रुपये रहा था।      

कांग्रेस ने सरकार के ई-सिगरेट पर प्रतिबंध का किया स्वागत

उल्लेखनीय है कि बजट में पूरे वित्त वर्ष के लिए प्रत्यक्ष कर संग्रह में 17.5 प्रतिशत और अप्रत्यक्ष कर के लिए 15 प्रतिशत वृद्धि का लक्ष्य रखा गया है। एक वरिष्ठ कर अधिकारी ने  कहा, ‘‘आज की तारीख तक कुल कर संग्रह 5.5 लाख करोड़ रुपये रहा है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 5.25 लाख करोड़ रुपये था। शुद्ध कर संग्रह 4.5 लाख करोड़ रुपये रहा है जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 4.25 लाख करोड़ रुपये रहा था।        

तेल के उफान से फिसला बाजार, सेंसेक्स 642 अंक टूटा, निवेशकों को 2.72 लाख करोड़ की चपत

इस दौरान सरकार का राजकोषीय घाटा उसके पूरे वर्ष के बजट अनुमान का 77 प्रतिशत से आगे निकल चुका है। जुलाई में यह 5,47,605 करोड़ रुपये पर पहुंच गया जबकि पूरे वर्ष के लिये बजट में 7,03,760 करोड़ रुपये रखा गया है। 

comments

.
.
.
.
.