Wednesday, Apr 01, 2020
uttar-pradesh-this-village-organize-cow-baby-mundan-ceremony

UP के इस गांव में लोगों ने किया गाय के बछड़े का मुंडन

  • Updated on 3/19/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जब घर में कोई नया बच्चा (New Child) पैदा होता है तो कुछ दिन बाद बच्चे का मुंडन सैरेमनी कराया जाता हैं। लेकिन क्या आपने कभी बछड़े की मुंडन सैरेमनी (Mundan Ceremony) के बारे में सुना है? सुनने में थोड़ा विचित्र लगेगा लेकिन ऐसी घटना हकीकत में हुई है।

लाइव स्लीपिंग वीडियो के जरिए भी आप बन सकते हैं मालामाल

गांववालों ने मिल कर कार्यक्रम किया आयोजित

Mundan Ceremony
दरअसल उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के फतेहपुर (Fatehpur) जिले के गांव सारौली में कुछ दिन पहले एक भैंस ने बछड़े को जन्म दिया था। बछड़े के जन्म के बाद गांववालों ने मिल कर मुंडन सैरेमनी का कार्यक्रम आयोजित किया।

Coronavius: चिकन-मटन को छोड़ लोग खा रहे ‘कटहल’

गांववालों के परामर्श पर किया अनुष्ठान

mundan ceremony

बताया जाता है कि जय चन्द्र सिंह नामक एक किसान का कहना है कि उसने यह अनुष्ठान गांववालों के परामर्श पर किया है। जब कभी भी उसकी भैंस (Buffalo) किसी बछड़े को जन्म देती है तब उसके लिए मुंडन सैरेमनी की जाती है। 

दरियाई नारियल के पेड़ पर 126 साल बाद आए फल

मुंडन सैरेमनी में पूरा गांव मेहमान

Bhandara

आपको जानकार हैरानी होगी की मुंडन सैरेमनी के समय पूरे गांववालों को इस कार्यक्रम में आमंत्रित (Invited) किया जाता है। उसके उपरांत गांव के लोगों के लिए भंडारा भी किया जाता है। इस पहल को लेकर कई लोगों ने प्रशंसा की हैं।

दिल्ली: यहां देखने को मिलते हैं चांद-मंगल ग्रह के 'अद्भुत' पत्थर और डायनासोर के अंडे

महिलाएं बछड़े के इर्द-गिर्द घेरा बनाकर खड़ी

Village Party

मुंडन सैरेमनी पर जय चन्द्र कहा कि मैं अपने गांव (Village) की सलाह अनुसार काम करता हूं तथा ऐसी उम्मीद करता हूं कि यह बछड़ा लम्बी आयु जिएगा। इस दौरान बछड़े पर लाल चुनरी डाली गई और वह पूरी तरह से बेआराम दिखा जब हज्जाम उसके सिर पर उस्तरा चला रहा था। इस दौरान गांव की महिलाएं बछड़े के इर्द-गिर्द घेरा बनाकर खड़ी थीं तथा लोकगीत गा रही थीं। मुंडन सैरेमनी के दौरान सारौली गांव के 300 लोग एकत्रित हुए जिन्होंने बाद में भंडारा भी खाया।   

comments

.
.
.
.
.