Saturday, Jul 24, 2021
-->
congress-leader-and-former-mla-ambrish-kumar-passed-away-musrnt

कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व विधायक अम्बरीष कुमार का निधन

  • Updated on 7/21/2021

हरिद्वार/ कुलभूषण। हरिद्वार की राजनीति में धूरी रहे वरिष्ठ कांग्रेसी नेता पूर्व विधायक अम्बरीष कुमार का मंगलवार देर रात बीमारी के चलते निधन हो गया। हरिद्वार के राजनीतिक गलियारों में भाईजी नाम से अपनी पहचान बनाने वाले अम्बरीष कुमार ने अपने चार दशक लम्बे राजनीतिक सफर की शुरुआत सत्तर के दशक में युवा कांग्रेस के सदस्य के रूप में की थी। लम्बे राजनीतिक जीवन में उन्होंने कभी सिद्धांतों से समझौता नहीं किया। बुधवार को सुबह उनके ज्वालापुर स्थित आवास पर पहुंचे विभिन्न राजनीतिज्ञों और समर्थकों ने उनके अन्तिम दर्शन कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।

उनकी अन्तिम यात्रा उनके आवास से कनखल धामघाट को रवाना हुई। जहां उनका अन्तिम संस्कार उनकी बेटी प्रियवंदा ने किया गया। इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व पूर्व कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, विधायक काजी निजामुद्दीन, विधायक ममता राकेश, विधायक आदेश चौहान, श्रमिक नेता मुरली मनोहर, पूर्व राज्यमंत्री डा. संजय पालीवाल, पूर्व पालिकाध्यक्ष प्रदीप चौधरी, पूर्व पालिकाध्यक्ष सतपाल ब्रहमचारी, मेयर अनीता शर्मा, पूर्व मेयर मनोज गर्ग, महानगर कांग्रेस अध्यक्ष संजय अग्रवाल सहित विभिन्न नेताओं व सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

बता दें कि 1977 में इन्दिरा गांधी की चुनावी हार के बाद उन्हें दोबारा सार्वजनिक कार्यक्रम में पहली बार हरिद्वार लाकर उनकी रैली आयोजित कराने वाले युवाक कांग्रेस नेता अम्बरीष कुमार थे। 1985 में हरिद्वार विधानसभा क्षेत्र से स्थानीय बनाम बाहरी प्रत्याशी को मुददा बनाकर चुनाव में उतरे अम्बरीष कुमार ने अपनी राजनीतिक पकड़ को साबित किया था। इस चुनाव में वह मात्र 71 मतों से हार गये थे।

उनके राजनीतिक विरोधी भी उनके वैचारिक चिंतन, कानूनी ज्ञान व कार्यक्रमों में जाने से पूर्व कार्यक्रम से सम्बन्धित विभिन्न पहलुओं का गहन अध्ययन करने कला का लोहा मानते थे। तत्कालीन उत्तर प्रदेश में हरिद्वार से विधायक बनने के बाद उन्होंने पहली बार ही तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष के विदेश प्रवास के दौरान विधानसभा की अध्यक्षता की। उत्तराखण्ड गठन के बाद अन्तरिम विधान सभा में वह लेखा समिति के अध्यक्ष रहे। अपने लम्बे राजनीतिक सफर में उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इन्दिरा गांधी, स्व. हेमवती नन्दन बहुगुणा, स्व. कमलापति त्रिपाठी और स्व. नारायण दत्त तिवारी जैसे नेताओं से भी बहुत कुछ सीखा।

अम्बरीष कुमार ने अपनी लम्बे राजनीतिक सफर में कई उतार चढ़ाव देखे। प्रशासनिक अधिकारी भी अम्बरीष के अनुभवों का समय- समय पर लाभ उठाते थे। उनसे सलाह मशविरा करते थे। उत्तराखंड के कई नेताओं ने उनसे राजनीतिक गुर सीखे। अम्बरीष कुमार के अपने समय के राजनीतिक दिग्गज रहे चौधरी यशपाल सिंह, चौ. अजित सिंह और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह से काफी नजदीकी सम्बन्ध रहे। विभिन्न पार्टियों से जुड़े नेता अम्बरीष कुमार की नेतृत्व क्षमता व उनकी आम जनता पर पकड़ का लोहा मानते थे। 2019 में उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर हरिद्वार लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन चुनाव हार गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.