Saturday, Jan 22, 2022
-->
afghanistan-refuses-to-release-taliban-prisoners

तालिबान कैदियों की रिहाई से अफगानिस्तान का इंकार

  • Updated on 3/1/2020

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। अफगानिस्तान (afganistan) के राष्ट्रपति अशरफ गनी (ashraf gani) ने हजारों तालिबान (taliban) की रिहाई से इंकार कर दिया है। अमरीका-तालिबान समझौते की यह अहम शर्त है। गनी ने कहा है कि आंशिक युद्धविराम (Partial ceasefire) है, जो सात दिन तक जारी रहेगा। अमरीका और तालिबान के बीच दोहा में समझौते में सभी विदेशी बलों को वापस बुलाने के लिए 14 माह का समय तय किया गया है बशर्ते तालिबान कई प्रतिबद्धताओं का पालन करें तथा अधिक समावेशी शांति समझौते के लिए काबुल के साथ वार्ता करे।

अफगानिस्तान: अमेरिका और तालिबान के बीच ऐतिहासिक करार, 14 महीनों में वापस होगी US आर्मी

तालिबान नेताओं से मुलाकात करूंगा : ट्रम्प
अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शनिवार को कहा कि उनकी जल्द ही तालिबान के नेताओं से मुलाकात करने की योजना है। अब वक्त आ गया है कि आतंकवाद के खिलाफ युद्ध कोई और लड़े, खासतौर से उस क्षेत्र के देश यह लड़ाई लड़ें। मैं जल्द ही तालिबान के नेताओं से व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात करुंगा। हम उम्मीद कर रहे हैं कि उन्होंने जो कहा वे उस पर अमल करेंगे, वे आतंकवादियों का खात्मा करेंगे। वे कुछ बहुत बुरे लोगों का  खात्मा करेंगे। वे इस लड़ाई को जारी रखेंगे। हमें अफगानिस्तान में आतंकवादियों का सफाया करने में बड़ी सफलता मिली लेकिन इतने वर्षों के बाद अब वक्त आ गया है कि अपने लोगों को घर वापस लाया जाए। हम अपने लोगों को घर लाना चाहते हैं।

 पाक में मौत की सजा के खौफ में जीती रहीं आसिया बीबी ने कहा- मुझे विश्वास था कि मुक्त हो जाऊंगी

अमरीका का अधिकार क्षेत्र नहीं : गनी
गनी ने कहा कि सरकार दोहा समझौते का हिस्सा नहीं थी इसलिए भले ही समझौते में कहा गया हो कि अमरीका तालिबानी कैदियों को रिहा करने के लिए इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है मगर यह स्पष्ट नहीं है कि काबुल की असहमति के बिना यह कैसे मुमकिन होगा। यह अमरीका के अधिकार क्षेत्र में नहीं है, यह अफगान सरकार के अधिकार क्षेत्र में है। यह अफगान के अंदर वार्ता का एजेंडा हो सकता है लेकिन वार्ता के लिए जरूरी शर्त नहीं। तालिबान अब तक गनी प्रशासन के साथ बातचीत करने से इनकार करता रहा लेकिन यह समझौता काबुल और चरमपंथियों के अंत: अफगान बातचीत के जरिए अलग शांति समझौते तक पहुंचने पर निर्भर है। पुन: निर्वाचन में हुई धांधली के आरोपों के बाद राजनीतिक संकट में घिरे गनी ओस्लो में 10 मार्च से शुरू होने वाली आगामी वार्ता की ओर इशारा कर रहे थे।

जानिए ट्रंप के भारत दौरे के बाद अमेरिका और भारत को क्या मिला…

दक्षिण कैरोलिना प्राइमरी में बाइडेन को जीत
अमरीका के पूर्व उपराष्ट्रपति जो बाइडेन ने शनिवार को दक्षिण कैरोलिना प्राइमरी का चुनाव जीत लिया जिससे राष्ट्रपति पद के चुनाव में उनके डेमोक्रेटिक पार्टी का उम्मीदवार बनने की मुहिम को बल मिला है। दक्षिण कैरोलिना में बाइडेन (77) ने कुल मतों में से 50 प्रतिशत से अधिक मत अपने नाम किए। सीनेटर बर्नी सैंडर्स (78) 17 प्रतिशत मतों के साथ इस प्राइमरी चुनाव में दूसरे स्थान पर रहे।  इससे पहले आयोवा, न्यू हैम्पशायर और नेवादा में हुए प्राइमरी चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। न्यू हैम्पशायर और नेवादा में सैंडर्स ने जीत हासिल की थी जबकि आयोवा में सैंडर्स और पीट बटिगीग संयुक्त विजयी रहे थे।  सभी की निगाहें ‘महा मंगलवार’ पर लगी है जब तीन मार्च को 15 राज्यों में प्राइमरी चुनाव होंगे।  बाइडेन ने दक्षिण कैरोलिना में जीत के बाद एक ईमेल में कहा, ‘‘हमने कर दिखाया। हम दक्षिण कैरोलिना जीत गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.