Monday, Mar 01, 2021
-->
Agriculture bill Farmer protest America Sobhnt

भारत के कृषि कानूनों के खिलाफ अमेरिका के शहरों में सिख-अमेरिकियों ने निकाली विरोध रैलियां

  • Updated on 12/6/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत में नए कृषि कानूनों (Agriculture law) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे भारतीय किसानों के समर्थन में अमेरिका के कई शहरों में सैकड़ों सिख अमेरिकियों ने शांतिपूर्वक विरोध रैलियां निकालीं। कैलिफोर्निया के विभिन्न हिस्सों के प्रदर्शनकारियों के सैन फ्रांसिस्को में भारतीय वाणिज्यदूतावास की ओर बढने वाली कारों के बड़े काफिले ने शनिवार को ‘बे ब्रिज’ पर यातायात बाधित कर दिया। इसके अलावा सैकड़ों प्रदर्शनकारी इंडियानापोलिस में एकत्र हुए।   

बिहार: किसान आंदोलन को लेकर FIR पर आगबबूला तेजस्वी, कहा- दम है तो गिरफ्तार करे निकम्मी सरकार  

किसान देश की आत्मा है
इंडियाना निवासी प्रदर्शनकारी गुरिंदर सिंह खालसा ने कहा कि किसान देश की आत्मा हैं। हमें अपनी आत्मा की रक्षा करनी चाहिए। अमेरिका और कनाडा के कई शहरों समेत दुनियाभर में लोग उन विधेयकों (कानूनों) के खिलाफ एकजुट हुए हैं, जो भारत के कृषि बाजार को निजी क्षेत्र के लिए खोल देंगे, जो बड़े कॉरपोरेट घरानों को स्वतंत्र कृषि समुदायों का अधिग्रहण करने की अनुमति देंगे और इससे फसलों के बाजार मूल्य में कमी आएगी।      

योगी सरकार के मंत्रिमंडल में विस्तार की चर्चा तेज, नए चेहरों को मिल सकता है मौका

वाशिंगटन डीसी में निकाली रैली
इससे एक दिन पहले शिकागो में सिख-अमेरिकी समुदाय के लोग एकत्र हुए और वाशिंगटन डीसी में भारतीय दूतावास के सामने विरोध रैली निकाली गई। रविवार को एक और रैली की योजना है। सिख-अमेरिकियों ने ‘किसान नहीं, भोजन नहीं’ और ‘किसान बचाओ’ जैसे पोस्टर थामकर प्रदर्शन किए। सिख नेता दर्शन सिंह दरार ने कहा कि यह भारत सरकार से तीनों कानूनों को वापस लेने का आग्रह नहीं है, बल्कि यह हमारी मांग है। उल्लेखनीय है कि हरियाणा, पंजाब और अन्य राज्यों के किसान भारत सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 11 दिन से लगातार डटे हैं।    

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...
 

comments

.
.
.
.
.