Tuesday, Mar 31, 2020
american experts eye on india visit, will try to serve business interests

भारत यात्रा पर अमरीकी विशेषज्ञों की नजरें, व्यापारिक हित साधने की कोशिश होगी

  • Updated on 2/16/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमरीका में इस साल राष्ट्रपति के चुनाव होने हैं। ऐसे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की भारत यात्रा पर अमरीका के बुद्धिजीवियों और विशेषज्ञों की नजरें लगी हैं। अमरीका ने हाल ही में भारत को विकासशील देशों की सूची से बाहर किया है। जाहिर है कि ट्रम्प के मनसूबे साफ हैं। वह अपनी इस यात्रा को अमरीका में मुनाफे के बड़े सौदे के रूप में प्रचारित करना चाहते हैं।

तुर्की ने फिर दिया भारत विरोधी बयान , कहा- कश्मीर में हो रहा जुल्म, देंगे पाक का साथ

भारत को कम करनी पड़ेगी एक्साइज़ ड्यूटी
ट्रम्प पहले भी कई बार साफ कह चुके हैं कि अमरीकी उत्पादों पर भारत मनमर्जी की ड्यूटी नहीं लगा सकता। अगर अमरीका में भारतीय उत्पादों पर कम ड्यूटी है तो भारत को भी कम करनी पड़ेगी। महाभियोग सुनवाई में सीनेट से बरी होने के बाद भी ट्रम्प की यह पहली यात्रा है। ‘कार्नेजी एन्डॉमेंट फॉर इंटरनेशनल पीस’ की सीनियर फेलो एश्ले टेलिस के अनुसार ट्रम्प की भारत यात्रा को देखना दिलचस्प होगा और वह अपनी बातों को मनवाने में सफल रहेंगे।

कोरोना वायरस का कहर जारी, चीन में 1,500 से अधिक लोगों की मौत

दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन करेंगे ट्रम्प
ट्रम्प का गुजरात के अहमदाबाद पहुंचने पर लाखों लोगों द्वारा गर्मजोशी से स्वागत किए जाने की उम्मीद है। वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम नव निर्मित मोटेरा स्टेडियम में हजारों लोगों के सामने ऐतिहासिक भाषण दे सकते हैं।

भारत यात्रा को लेकर बेहद उत्साहित हूं : मेलानिया ट्रंप 

अमेरिका की चाहत भारत बढ़ाए रक्षा उपकरणों की खरीद
अमरीका चाहता है कि भारत उससे रक्षा खरीद बढ़ाए और ईंधन खरीद भी खाड़ी देशों की जगह उससे ज्यादा करे। भारत से संबंधित मामलों के विशेषज्ञ टेलिस के अनुसार दोनों देशों के बीच व्यापार विवाद हल होगा या नहीं,  सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस मुद्दे पर चुप्पी साधी हुई है। हालांकि भारत सरकार ने दावा किया है कि दोनों देश एक समझौते के करीब हैं। रक्षा बिक्री पर कुछ प्रगति हुई होगी। मगर ट्रम्प ज्यादा चाहते हैं।

ब्रिटेन के नए वित्त मंत्री बने नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनाक

समझौता कर सकते हैं दोनों देश
‘सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज’ में ‘यूएस इंडिया पॉलिसी स्टडीज’ में वधवानी चेयर रिक रोसॉव ने उम्मीद जताई कि दोनों नेता हाल में आए व्यापार अवरोधों को दूर करने के लिए एक समझौता कर सकते हैं। रोसॉव का मानना है कि ट्रम्प की भारत यात्रा अब इतनी महत्वपूर्ण घटना नहीं है। भारत निर्यात के लिए बड़ा और उभरता बाजार है और अमरीका की नजर उस पर है। वह उसे अपना नया सुरक्षा साझेदार बनाना चाहता है। अभी अमरीका से हथियारों की सबसे ज्यादा खरीद साऊदी अरब करता है। ट्रम्प को भारत से भी ऐसी ही उम्मीद है। न्यू अमरीका में सीनियर फेलो अनीश गोयल ने कहा कि यह यात्रा राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधानमंत्री मोदी दोनों के लिए राजनीतिक रूप से फायदेमंद होगी।

FATF की बैठक से पहले आतंकी हाफिज सईद की जेल पर भारत ने उठाए सवाल

ट्रम्प के रोड शो में लगेंगे दस हजार से ज्यादा पुलिस कर्मी
अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 24 फरवरी को यहां होने वाले रोडशो में 25 वरिष्ठ आईपीएस अफसरों के नेतृत्व में 10 हजार से अधिक सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे। पुलिस उपायुक्त (नियंत्रण कक्ष) विजय पटेल ने बताया कि 65 सहायक आयुक्त, 200 निरीक्षक और 800 उपनिरीक्षकों समेत करीब 10 हजार से अधिक पुलिसकर्मी शहर के रणनीतिक स्थानों पर तैनात रहेंगे।

कोरोना वायरस ने बरपाया कहर, चीन में एक दिन में 242 लोगों की मौत

अमेरिकी खुफिया विभाग के अधिकारी भी रहेंगे तैनात
अमरीकी खुफिया विभाग, NSG और SPG के अधिकारियों की तैनाती की जाएगी। ट्रम्प, उनकी पत्नी मेलानिया ट्रम्प और प्रधानमंत्री मोदी एक साथ करीब 22 किलोमीटर लंबा रोडशो करेंगे, जोकि अहमदाबाद अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से शुरू होकर साबरमती आश्रम और इंदिरा ब्रिज होते हुए मोटेरा स्टेडियम तक जाएगा। पटेल ने कहा कि एनएसजी की एंटी स्नाइपर टीम भी रूट पर तैनात रहेगी। खोजी और बम निरोधक दस्ते पहले से ही पूरे रूट की पड़ताल में जुटे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.