Thursday, May 13, 2021
-->
anand kumar super 30 british canada sobhnt

Super 30 वाले आनंद कुमार की कनाडा की संसद में हुई प्रशंसा

  • Updated on 2/24/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कनाडा के एक सांसद ने वंचित बच्चों के लिए सुपर30 (Super 30) के संस्थापक एवं शिक्षक आनंद कुमार (Anand kumar) के ‘प्रेरक कार्य’ की शिक्षा के एक सफल मॉडल के तौर पर प्रशंसा की है। ब्रिटिश कोलंबिया में मैपल रिज और पिट मीडोज के सांसद मार्क डाल्टन ने संघीय जिले में शिक्षा परियोजनाओं का ब्योरा देते हुए कहा कि सुपर 30 के प्रेरक कार्य समाज के वंचित वर्ग के छात्रों की भारत के प्रमुख संस्थानों तक पहुंचने में सभी बाधाओं को दूर करने में मदद कर रहे हैं।     

पामेला ड्रग्स मामला : भाजपा नेता राकेश सिंह को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिया झटका 

जमकर की प्रशंसा
डाल्टन ने कहा कि मैपल रिज के निवासी बीजू मैथ्यू ने कुमार पर एक किताब लिखी है जो बिहार में जन्मे गणितज्ञ हैं और यह शिक्षाविदों के लिए बहुत प्रेरणादायक है। सुपर30, एक अत्यधिक प्रशंसित शैक्षिक कार्यक्रम है जिसकी स्थापना कुमार ने की है। सुपर30 बिना किसी शुल्क के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान प्रवेश परीक्षा के लिए हर साल 30 वंचित छात्रों को प्रशिक्षित करता है।   

कुमार को इससे पहले 2012 में कनाडा में एक प्रांत स्तरीय समारोह में सम्मानित किया गया था। तत्कालीन उन्नत शिक्षा मंत्री, ब्रिटिश कोलंबिया सरकार, नाओमी यामामोटो ने कुमार को एक ‘प्रतिभाशाली’ शिक्षक करार दिया था।     

गुजरात निकाय चुनाव: BJP ने 93 और AAP ने जीती 27 सीटें, सड़कों पर जश्न का माहौल 

कनाडा में फिल्म हुई थी रिलीज
बता दें सुपर 30 की फिल्म की रिलीज कनाडा में की जा रही है। जिसकी स्क्रीनिंग के लिए वह 20 सितंबर को कनाडा में गए थे। वहां उनका साक्षात्कार भी हुआ था। उस समय ब्रिटिश कोलंबिया की कला एवं संस्कृति मंत्री लीसा बेयर भी मौजूद थी। बता दें इससे पहले भी आनंद कुमार को सम्मानित करने के लिए कनाडा बुलाया गया था। उनको वैंकूवर स्थित साउथ एशियन कल्चरल सोसायटी की ओर से राज्य स्तरीय सम्मान से सम्मानित किया गया था।  

गौरतलब है कि बिहार में जन्में और कनाडा के नागरिक बिजु मैथ्यू ने आनंद कुमार पर एक किताब लिखी थी । जिस किताब पर बताया जा रहा है कि सुपर 30 फिल्म बनाई गई। बता दें आनंद कुमार हर साल सुपर 30 के लिए 30-30 लोगों को आईआईटी के लिए पहुंचाते हैं।  

 

ये भी पढ़ें:

 

comments

.
.
.
.
.