Sunday, Sep 26, 2021
-->
Briten Boris johnson 26 January sobhnt

ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन ने रद्द किया भारत दौरा, 26 जनवरी को थे आमंत्रित

  • Updated on 1/5/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ब्रिटेन (Briten) के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने अपना भारत दौरा रद्द कर दिया है। बता दें इस साल ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन 26 जनवरी के समारोह में मुख्य अतिथि बनकर आने वाले थे। मगर अब खबर आ रही है कि अचानक उन्होंने अपना दौरा रद्द कर दिया है। कहा जा रहा है कोरोना स्ट्रेन के चलते उन्होंने यह निर्णय लिया है।  

शशि थरूर ने की घरेलू महिलाओं को वेतन देने की वकालत, कंगना रानौत ने ऐसे लगा दी क्लास... 

सुब्रमण्यम स्वामी ने भी किया ट्वीट
बता दें इससे पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की भारत यात्रा के लेकर बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट किया था। उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि बोरिस जॉनसन को  अपनी भारत यात्रा समाप्त कर देनी चाहिए। उन्होंने मोदी सरकार को सलाह दी थी कि वह जॉनसन की यात्रा को रद्द कर दे। 

बर्फबारी- भूस्ख्लन की वजह से जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद, सैकड़ों वाहन फंसे  

ब्रिटेन में तेजी से बढ़ रहा है स्ट्रेन
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड के लिए मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया था। हालांकि, जॉनसन ने संकेत दिया है कि उनकी भारत यात्रा जी-7 शिखर सम्मेलन से पहले साल के पूर्वाद्र्ध में होगी। ब्रिटेन की अध्यक्षता में यह सम्मेलन इस साल के अंत में प्रस्तावित है।  गौरतलब है कि जॉनसन ने एक दिन पहले टेलीविजन के माध्यम से ब्रिटेन को संबोधित करते हुए कहा था कि वायरस के नये प्रकार  से संक्रमण की दर अत्यधिक बढऩे के कारण उनके मेडिकल प्रमुखों ने चेतावनी दी है कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा खतरे का सामना कर रही है। ब्रिटिश प्रधानमंत्री के कार्यालय सह आवास, 10 डाउनिंग स्ट्रीट, के प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने योजना के अनुसार इस महीने के आखिर में होने वाली अपनी भारत यात्रा पर नहीं जा सकने के लिए खेद प्रकट करने को लेकर आज सुबह प्रधानमंत्री मोदी से बात की।      

शशि थरूर ने की घरेलू महिलाओं को वेतन देने की वकालत, कंगना रानौत ने ऐसे लगा दी क्लास...

घरेलू प्रतिक्रिया पर ध्यान करेंगे
प्रवक्ता ने कहा कि बीती रात घोषित राष्ट्रीय लॉकडाउन के आलोक में और कोरोना वायरस के नये प्रकार के फैलने की गति के मद्देनजर प्रधानमंत्री ने कहा है कि उनके लिए यह जरूरी है कि वह ब्रिटेन में मौजूद रहें, ताकि वह वायरस के खिलाफ घरेलू प्रतिक्रिया पर ध्यान दे सकें। दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंध के प्रति अपनी साझा प्रतिबद्धता को रेखांकित किया और महामारी के खिलाफ प्रतिक्रिया सहित दोनों देशों के बीच करीबी सहयोग के जरिए इसे जारी रखने की भी बात कही।      

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कांग्रेस बोली- सेंट्रल विस्टा कानूनी नहीं, गलत प्राथमिकताओं का मुद्दा

अतिथि के तौर पर शरीक होने वाले थे
प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि वह 2021 की पहली छमाही में और ब्रिटेन के जी-7 शिखर सम्मेलन से पहले भारत की यात्रा पर जा सकेंगे, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी एक अतिथि के तौर पर शरीक होने वाले हैं। जॉनसन ने 26जनवरी (2021) पर गणतंत्र दिवस परेड में मुख्य अतिथि के तौर पर शरीक होने के लिए प्रधनमंत्री मोदी का न्योता पिछले महीने स्वीकार किया था।उल्लेखनीय है कि केवल इंग्लैंड के नवीनतम आंकड़ों के मुताबिक अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले हफ्ते करीब एक तिहाई बढ़ कर लगभग 27,000 हो गई। बीते साल अप्रैल में कोविड-19 के मामले जब पहली बार चरम पर पहुंचे थे उसकी तुलना में यह 40 प्रतिशत अधिक है। पिछले साल 29 दिसंबर को ब्रिटेन में 80,000 हजार से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। पिछले सप्ताह संक्रमण से मरने वालों की संख्या में भी 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.