Wednesday, Jan 26, 2022
-->
china urged not to return the kits think twice vbgunt

खराब किट लौटाने की धमकी से घुटनों पर आया चीन, करने लगा बातचीत का आग्रह

  • Updated on 4/29/2020

नई दिल्ली टीम डिजिटल। पूरे हिंदुस्तान में चीन (china  के सामान के बारे में एक कहावत कही जाती है कि ‘चले तो चांद तक ना चले तो शाम तक।' कोरोना की जांच किट और पीपीई (ppe) किट की घटिया और चालू क्वालिटी पूरी दुनिया में थू-थू करवा चुकी है। मगर मोदी सरकार ने चीन सरकार को दो टूक लहजे में चीन को अपना घटिया सामान वापस लेने और कोई भुगतान नहीं मिलने की बात कह दी है। मगर मोदी की धमकी और दुनिया भर में फजीहत के बाद अब चीन का लहजा काफी नर्म होता जा रहा है।

राष्ट्रपति ट्रंप का बड़ा बयान, बोले- कोरोना की वजह से नही टाले जाएंगे आने वाले चुनाव

हिंदुस्तान ने दी सामान लौटाने की धमकी
हिंदुस्तान ने चीन के सामान की खराब गुणवत्ता को देखते हुए सारा सामान लौटाने और कोई पेमेंट नहीं करने की बात कह दी है। मगर भारत की इस धमकी के बाद से चीन घुटनों पर आ गया है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने नरमीं दिखाते हुए कहा है कि भारत और चीन एक दूसरे का सहयोग कर रहे हैं। शुआंग ने बताया कि चीन की गुआंगजो और जुहाई की दो कंपनियां वोंडफो बायोटेक और लिवजोन इस समान का उत्पादन कर रही हैं।

पीपीई सूट की कमी के खिलाफ जर्मनी में डॉक्टरों ने किया नग्न विरोध प्रदर्शन

भारत और चीन की टेस्टिंग कंपनियों ने पास कर दी थी किट
मीडिया से मुखातिब गेंग ने बताया कि भारत को इस मुद्दे को सुलझाने के लिए चीन की दोषी कंपनियों से बात करना चाहिए। चीन ने अपने अनुभव का फायदा भारत के साथ साझा करने का प्रस्ताव भी दिया है। गेंग ने बताया कि दोनों कंपनियों ने दावा किया था कि नैशनल मेडिकल प्रॉडक्ट्स ऐडमिनिस्ट्रेशन ऑफ चाइना (NMPA) ने खुद इन कंपनियों के उत्पाद की जांच के बाद इन्हें सही ठहराया था। इसके बाद भारत की इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ वायरॉलजी से भी पास किया गया था और बाजार में उतारा गया था। भारत को इस बारे में दोबारा बात करने की जरुरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.