Friday, Dec 03, 2021
-->
congress-said-lack-of-political-will-in-the-central-government-regarding-china

कांग्रेस बोली, चीन को लेकर केंद्र सरकार में राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी

  • Updated on 10/12/2021

नई दिल्ली/नेशनल ब्यूरो। पूर्वी लद्दाख की सीमा पर चीनी सैनिकों के जमावड़े और 13 दौर की बैठक के बाद अब वहां हटने से चीन के मना करने पर कांग्रेस ने केंद्र सरकार को आड़े हाथ लिया है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी का आरोप लगाते हुए कहा कि लाल आंख चीन को दिखाने की बजाए सवाल करने वाले विपक्ष और मीडिया को दिखाई जाती है।

भारत के खिलाफ मानवाधिकारों के उल्लंघन के झूठे आरोप लगाना बहुत आम हुआ : NHRC चीफ जस्टिस मिश्रा

भारत और चीन के बीच 13वें दौर की सैन्य वार्ता विफल होने पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए ट्विट कर सवाल किया कि वह चीन को ‘लाल आंख क्यों नहीं दिखा देते?’ कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने मंगलवार को यहां प्रेस कांफ्रेंस में 19 जून 2020 का प्रधानमंत्री का बयान वह बयान दोहराया जिसमें उन्होंने भारतीय सीमा में चीनी सैनिकों की घुसपैठ पर सर्वदलीय बैठक में बोला था-न कोई घुस आया है, न कोई कोई घुसा हुआ है। खेड़ा ने प्रधानमंत्री को मिस्टर क्लीनचिट की पदवी देते हुए कहा कि उन्होंने इस एक बयान के जरिए चीन को क्लीन चिट दी थी। इस बयान की वजह से चीन के साथ जो समझौते हुए, वो गैर बराबरी के हो गए।

कोयला संकट को लेकर हरकत में आई मोदी सरकार, कोल इंडिया को दिए निर्देश

खेड़ा ने दावा किया कि चीन और दुनिया को समझ में आ गया है कि भारत में एक ऐसा प्रधानमंत्री है, जिन्हें देश की संप्रभुता और सीमाओं की सुरक्षा से अधिक अपनी कृत्रिम छवि की ङ्क्षचता है। उन्होंने दावा किया कि हमारी वीर सेना ने दक्षिणी पैंगोंग में जो हासिल किया था, वो हमने गंवा दिया। अप्रैल, 2020 के पहले तक जहां गश्त लगाई जाती थी, वहां अब यह नहीं हो रहा है। एक वीर देश, पराक्रमी सेना है, लेकिन कमजोर प्रधानमंत्री है। उन्होंने कहा कि हमारे देश की सेना के पराक्रम पर कभी संदेह नहीं हो सकता। लेकिन हमें इस सरकार में राजनीतिक इच्छाशक्ति की भारी कमी दिख रही है। 

जल्द ही 18 साल तक के बच्चों को लगेगा Corona का टीका, कौवेक्सीन का ट्रायल रहा सफल

कांग्रेस नेता ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय डिप्लोमैसी में ट्रेड दबाव बनाने का एक बेहतर जरिया होता है। लेकिन चीन के मामले में भारत सरकार एक उलट काम कर रही है। एक तरफ चीन भारत की सीमा में घुसता चला आ रहा है, दूसरी तरफ चीन से हमारा व्यापार 62.7 फीसद तक बढ़ गया। उन्होंने कहा कि कूटनीति नारे लगाने से नहीं होती और न ही  ऊंची आवाज में भाषण देने होती है। यह तो चुपचाप होती है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी ङ्क्षहसा मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा की बर्खास्तगी में एक मिनट का भी समय नहीं लगाना चाहिए। खेड़ा ने दावा किया कि प्रधानमंत्री की ओर से अब तक यह कदम नहीं उठाए जाने का मतलब साफ है कि या तो वह किसी दबाव में हैं या फिर लखीमपुर खीरी की घटना को वह अपराध नहीं मानते। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.