Friday, Jan 21, 2022
-->
george flood death caused violent  riots in america vbgunt

अमेरिका में बेकाबू हिंसा के पीछे 'जॉर्ज फ्लॉयड की मौत का वीडियो' क्यों बना वजह

  • Updated on 6/2/2020

नई दिल्ली टीम डिजिटल। कोरोना (corona virus) के कारण एक लाख से ज्यादा मौतों का गवाह बन चुका अमेरिका (america) अचानक कोरोना को भुलाकर हिंसक प्रदर्शन का शिकार हो चुका है। अमरिका के कई शहरों में कर्फ्यू लगा है, राजधानी वाशिंगटन (washington) तक दंगों की आग पहुंच चुकी है। खुद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को बंकर में छुपकर अपनी जान बचानी पड़ी। मिन्नेसोटा में पुलिस स्टेशन को फूंका जा चुका है। इन सब हिंसक प्रदर्शनों की वजह एक अश्वेत अमेरिकी (black american) की मौत है। आखिर कौन है ये जॉर्ज फ्लॉयड जिसकी मौत के बाद पूरे अमेरिका में इतना भयंकर भूचाल आ चुका है कि कोरोना महामारी की दहशत भी इन प्रदर्शनकारियों को डिगा नहीं पा रही है।

कहीं चीनी सैनिक पिटे तो कहीं भारतीय सैनिक हावी, क्या है तस्वीरों का सच

सिर्फ 20 डॉलर के कारण जॉर्ज ने गंवाई जान
25 मई को एक अश्वेत अमेरिकी अफ्रीकी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले जॉर्ज फ्लॉयड को पुलिस ने हिरास में लेने की कोशिश की। जॉर्ज पर 20 डॉलर का नकली नोट दुकान में चलाने का आरोप था। पुलिस ने दावा किया कि जॉर्ज ने पुलिस अधिकारियों से हाथापाई की कोशिश की, इसलिए उसे जबरन पकड़ कर जमीन पर लिटा दिया गया और एक पुलिस अधिकारी ने उसके गर्दन पर अपना घुटना रख दिया।

जासूसी पकड़े जाने पर सामने आई पाकिस्तान की छटपटाहट, भारतीय दूतावास को सम्मन

पूरी दुनिया में देखा गया जॉर्ज की मौत का वीडियो
इसी हादसे में जॉर्ज की मौत हो गई। मगर पुलिस अधिकारी के घुटनों के नीचे दबे हुए दम तोड़ते जॉर्ज फ्लॉयड की वीडियो काफी तेजी से पूरी दुनिया में वायरल होती गई। कुछ ही दिनों बाद इस वीडियो को अमेरिका में अश्वेतों पर होने वाले हमले के तौर पर प्रचारित किया गया। अब इसी वीडियो का असर है कि पूरा अमेरिका सुलग रहा है। यहां तक कि खुद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प तक को बंकर में छुपकर अपना जान बचानी पड़ी।

चीन का यू टर्न, कहा- भारत के साथ सीमा विवाद को शांति से सुलझाने को तैयार

लंबे-तगड़े जॉर्ज को लोग बुलाते थे बिग फ्लॉयड
जॉर्ज को अपनी लंबी-चौड़ी कद काठी के कारण लोग बिग फ्लॉयड भी बुलाते थे। वो 46 साल के फ्लॉयड का जन्म कैरोलीना में हुआ था मगर काम करने के लिए वो ह्यूस्टन में आ गया था। मिनियापोलिस के रेस्तरां में जॉर्ज को सुरक्षा गार्ड का काम भी मिल गया और रहने की जगह भी मिल गई। जॉर्ज की 6 साल की बेटी ह्यूस्टन में अपनी मां के पास है। इसी मिनियापोलिस में ही बीस डॉलर का एक जाली नोट चलाने के आरोप में उसे दुकान के बाहर से गिरफ्तार करने की कोशिश की गई थी। इसी कोशिश में उसकी मौत हो गई।

BJP नेता कपिल मिश्रा ने अमेरिका में हो रहे प्रदर्शनों के बीच वहां के नागरिकों को दी ये सलाह...

दोषी पुलिस कर्मियों पर हो चुकी है कार्रवाई
मगर जारी वीडियो में जॉर्ज को दबाने वाला पुलिस अधिकारी डेरेक शोविन श्वेत है लिहाजा पूरा मामला तूल पकड़ता चला गया। आरोपी पुलिस अधिकारी पर थर्ड डिग्री मर्डर का आरोप लगाया गया है। चार पुलिस कर्मियों को नौकरी से निकाल दिया गया है। जांच की जा रही है। मगर बेकाबू हिंसक भीड़ शांत होने का नाम नहीं ले रही है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.