Monday, Nov 18, 2019
Indian American people celebrated Chhath festival in large number in America

भारतीय-अमेरिकी लोगों ने मनाया अमेरिका में बड़ी संख्या में छठ पर्व

  • Updated on 11/5/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अमेरिका (America) में पोटोमैक नदी (Potomac River) के किनारे 500 से अधिक भारतीय और अमेरिकी लोगों ने हर्षोल्लास के साथ छठ पर्व मनाया। इस पूजा उत्सव में बड़ी संख्या में लोग नदी के तट पर एकत्र हुए और डूबते और उगते सूर्य को जल दिया। इस दौरान कई महिलाएं रंग-बिरंगी पारंपरिक साड़ियों में दिखीं। छठ पूजा पर सूर्य देव और छठी मैया की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्ण रूप से प्रकृति को सर्मिपत है। यह महापर्व मुख्य रूप से भारत (India) तथा नेपाल के पूर्वी और उत्तरी भागों में मनाया जाता है।

#ChhathPuja: सोनिया, राहुल, प्रियंका और कांग्रेस के कई अन्य नेताओं ने दी शुभकामनाएं

विदेशों में मिल रहा छठ को अनूठा आयाम

शनिवार शाम और रविवार की सुबह वाशिंगटन (Washington) के वर्जीनिया उपनगर में पोटोमैक नदी के तट पर 500 से अधिक भारतीय-अमेरिकी इकठ्ठा हुए थे, जिनमें से कई तो सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय कर इस लोकप्रिय भारतीय त्योहार को मनाने के लिए यहां पहुंचे थे। पिछले कई वर्षों से भारतीय समुदाय के लोग छठ पूजा मनाते आ रहे हैं। भारतीय समुदाय के साथ नेपाली समुदाय के लोग भी इस पूजा में शामिल होते हैं। इससे विदेश में छठ समारोह को एक अनूठा आयाम मिल रहा है।

Chhath Puja 2019: खरना के दिन बन रहा है शुभ संयोग, जानें महत्व

कृपाशंकर सिंह ने की शुरूआत 

पटना से अमेरिका में बसे सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) कृपाशंकर सिंह (Kripashankar Singh) ने कहा कि यह सब 2006 में शुरू हुआ था जब उन्होंने और उनकी पत्नी अनीता (Anita) ने छठ पूजा मनाने के लिए जगह की तलाश शुरू की। पोटोमैक के पास स्थित एक पार्क में बैठे सिंह दंपति को एक दिन नदी के तट पर छठ को पारंपरिक तरीके से मनाने का विचार आया और इसे मनाने का फैसला किया। अनुमति के लिए उन्होंने पार्क के अधिकारियों से संपर्क किया। शुरुआती हिचकिचाहट और थोड़ा समझाने के बाद लाउडॉन काउंटी ने उन्हें इसके लिए अनुमति दे दी। 

छठ पूजा: नहाय खाय के साथ आज से होगी व्रत की शुरूआत

धूमधाम से मनाया जाने लगा यह पर्व

अब यहां बड़े पैमाने पर बड़ी धूमधाम के साथ छठ का यह महापर्व मनाया जाता है। सिंह ने कहा कि हर साल छठ मनाने वालों की संख्या बढ़ रही है। सिंह ने कहा कि हमारी कोशिश है कि अपनी संस्कृति को विदेशी धरती पर भी जीवित रखा जाए। इस वर्ष उत्सव को फेसबुक पर लाइव प्रसारित किया गया और हजारों दर्शकों ने इसे देखा। 

comments

.
.
.
.
.