Wednesday, Jan 26, 2022
-->
nepal pm oli  throne in danger president announces election by dissolving parliament pragnt

नेपाल: खतरे में PM ओली की गद्दी! राष्ट्रपति ने संसद भंग करते हुए की चुनाव की घोषणा

  • Updated on 5/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटिल। नेपाल में एक बार फिर से राजनीतिक संकट आ गया है और प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की गद्दी खतरे में पड़ गई है। राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने शुक्रवार आधी रात को संसद भंग कर दी और 12 और 19 नवंबर को मध्यावधि चुनाव कराने की घोषणा की। भंडारी ने यह घोषणा संसद भंग करने की पीएम ओली की सिफारिश का समर्थन करने के बाद की।

कोरोना पर डॉ हर्षवर्धन का दावा - साल के अंत में सभी व्यस्कों का टीकाकरण करने की स्थिति में होगा देश

भंग हो गई संसद
राष्ट्रपति कार्यालय से प्रेस को जारी एक बयान में कहा गया है कि संसद को भंग कर दिया गया है और नेपाल के संविधान के अनुच्छेद 76 (7) के आधार पर मध्यावधि चुनावों की तारीखों की घोषणा की गई है। मंत्री परिषद ने पहले चरण का चुनाव 12 नवंबर और दूसरे चरण का चुनाव 19 नवंबर को कराने की सिफारिश की।

नेपला में चल रहा राजनीतिक संकट
नेपाल के राजनीतिक संकट ने शुक्रवार को उस वक्त नाटकीय मोड़ ले लिया जब प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली और विपक्षी दलों दोनों ने ही राष्ट्रपति को सांसदों के हस्ताक्षर वाले पत्र सौंपकर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया। प्रधानमंत्री ओली विपक्षी दलों के नेताओं से कुछ मिनट पहले राष्ट्रपति के कार्यालय शीतल निवास पहुंचे और अपनी सूची सौंपी।

Air India के यात्रियों का डेटा लीक, एयरलाइंस ने अपनी डेटा प्रोसेसर कंपनी को बताया जिम्मेदार

शुक्रवार को हुई बैठक
नेपाल के विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली को पद से हटाने और मौजूदा राजनीतिक संकट को सुलझाने के लिए आगे की रणनीति तय करने के लिहाज से शुक्रवार को बैठक की। ओली ने संसद में अपनी सरकार का बहुमत साबित करने के लिए एक और बार शक्ति परीक्षण से गुजरने में अनिच्छा व्यक्त की है।

पीएम ओली को लगता है ये
प्रधानमंत्री ओली को लगता है कि हालात 10 मई की परिस्थिति से अलग नहीं हैं, जब 69 वर्षीय नेता प्रतिनिधि सभा में विश्वास मत हार गए थे। ओली को प्रधानमंत्री बने रहने के लिए 30 दिन के अंदर बहुमत साबित करना है। नेपाली कांग्रेस (एनसी) के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा के आवास पर विपक्षी गठबंधन की बैठक चल रही है। नेपाली कांग्रेस (एनसी), कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओइस्ट सेंटर) और जनता समाजवादी पार्टी के उपेंद्र यादव नीत धड़े के शीर्ष नेता बैठक में भाग ले रहे हैं।

comments

.
.
.
.
.