Wednesday, Sep 18, 2019
ramadan-pak-month-started-kept-the-first-rosa

रमजान का पाक महीना हुआ शुरू, रखा पहला रोजा

  • Updated on 5/8/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। रमजान का पाक महीना शुरू हो गया है। मुस्लिम समाज के लोगों ने मंगलवार को माह-ए-रमजान का पहला रोजा रखा। इसको लेकर दिल्ली के बाजारों में भी चहल-पहल देखने को मिली। रमजान माह शुरू होने से मुस्लिम समाज के लोगों में उत्साह देखने को मिला। पवित्र महीने रमजान उल मुबारक शुरू होते ही मुस्लिम समाज के लोग खुदा की नुमाइंदगी के लिए पूरी तसल्ली से इबादत में जुट गए हैं। रमजान में रोजा रखने के साथ ही मुसलमान पांचों वक्त की नमाज के अलावा तरावीह की नमाज भी पाबंदी के साथ अदा करते हैं। रमजान के महीने को दस-दस दिन के तीन हिस्सों में बांटा जाता है। पहला रहमत का, दूसरा हिस्सा मगफिरत का और तीसरा हिस्सा दोजख से निजात का होता है। उधर, रमजान शुरू होते ही मस्जिदों के आसपास और शहर के बाजारों में रौनक बढ़ गई है। बाजारों में जगह-जगह सेवइयां, खजूर आदि की दुकानें सज गई हैं। जहां से मुस्लिम समाज के लोग खरीददारी करते हुए नजर आए।

रोजे रखने जा रहे हैं तो इन हेल्दी Tips को जरूर पढ़ें, रमजान में मिलेगा आराम

Navodayatimes

रोजा रखने से मन को मिलती है शांति

रमज़ान माह का एक-एक मिनट बहुत कीमती होता है। रमज़ान रहमत बरकत और मगफिरत का महीना है। इस पूरे महीने में मुसलमान भूखा प्यासा और बुरे कामों से तौबा कर हर अच्छे से अच्छे कार्य करने के साथ रोजे रखते हैं। ऐसे में अच्छे काम की वजह से मन को शांति मिली है। साथ ही विज्ञानिक तौर पर देखा जाए, तो रोजा हमारी बीमारियों का इलाज भी है। इसकी बरकत से इंसानों के अंदर रूहानी ताकत रखने से स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। साथ ही रमजान एक सब्र का महीना माना जाता है। इसी तरह इंसान अगर अपनी ख्वाहिशात से सब्र न करे तो रोजा रखना मुमकिन नहीं है। कुरान में जहां इबादत का हुक्म दिया गया है उसका आगाज ही यह कह कर किया गया है कि सब्र हासिल करो नमाज के जरिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.