Thursday, Jan 27, 2022
-->
saudi arabia women rights activist loujain jail sobhnt

सऊदी अरब में महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली लुजैन को हुई 6 साल की जेल

  • Updated on 12/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  सऊदी अरब (Saudi Arabia) से एक बुरी खबर आ रही है। यहां महिला अधिकारों की लड़ाई लड़ने वाली सामाजिक कार्यकर्ता लूजैन अल-हथलौल (Loujain Alhathloul) को लगभग 6 साल की सजा सुनाई गई है। सऊदी प्रशासन ने उन पर आरोप लगाया है कि वह किंगडम के खिलाफ षडयंत्र रच रही थी। जिसके लिए उन्हें 2018 में हिरासत में लिया गया था।  

किसान आंदोलन: पंजाब में 1500 से ज्यादा तोड़े गए मोबाइल टावर, CM बोले- होगी सख्त कार्रवाई

6 साल की सजा सुनाई गई
बता दें एक विदेशी अखबार ने जानकारी दी है कि लूजैन को 6 साल की सजा सुनाई गई थी, चूंकि वह पिछले 2 साल से पहले से ही जेल में बंद हैं। ऐसे में उनकी सजा को 2018 से ही गिना जा रहा है। ऐसे में लूजैन को 3 साल और कुछ महीने की ही अब जेल काटनी होगी। बता दें इस केस से एक बार फिर सऊदी अरब की प्रतिष्ठा खराब हो रही है।  

UK के नए कोरोना वायरस स्ट्रेन की भारत में हुई एंट्री, 6 यात्रियों में पाया गया नया स्ट्रेन

दुनिया में साख हुई खराब
बता दें यह केस सऊदी अरब की प्रतिष्ठा के लिए काफी जोखिमभरा है। खासकर, तब जब अमेरिका में जो बाइडेन की सरकार आ गई है। अगर लूजैन को ज्यादा लंबी सजा सुनाई जाती तो दोनों देशों के संबंधों में खटास आ सकती थी। हालांकि, लूजैन के मामले में पहले से सऊदी अंतरराष्ट्रीय मंच के निशाने पर रहा है। सजा को लेकर भी उसकी आलोचना की जा रही है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया देश के पहले डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का शुभारंभ

अमेरिका कर सकता है हस्तक्षेप
गौरतलब है कि लूजैन की बहन लीना का आरोप है कि सरकार उसकी बहन के साथ दोगलापन कर रही है। वह कहती हैं कि उनकी बहन एक सामाजिक कार्यकर्ता है। उन्होंने मोहम्मद बिन सलमान और सऊदी किंगडम के सुधारों की वकालत की है। मगर फिर भी उनकी बहन को गिरफ्तार किया गया। उनकी गिरफ्तारी को पूरी दुनिया दूसरे नजरिए से देख रही है। वहीं हाल में अमेरिका में आई बाइडेन सरकार सऊदी के इस रवैया पर नाराजगी जता सकती है। उम्मीद की जा रही है कि नई सरकार इस मामले में हस्तक्षेप करेगी। 

जमाल खशोगी की भी हुई थी हत्या
बता दें इससे पहले पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के बाद भी सऊदी अरब का खूब नाम बदनाम हुआ था। आरोप था कि पत्रकार खशोगी को भी युवराज सलमान के आदेश से मारा गया था। उनकी मौत तुर्की में हुई थी। आरोप था कि उनकी हत्या इसलिए हुई थी क्योकिं वह सऊदी के खिलाफ जमकर बोलते थे। सरकार चाहती थी कि उन्हें चुप कराया जाए। 


ये भी पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.