Wednesday, May 12, 2021
-->
uk court to decide vijay mallyas fate today

ब्रिटेन की अदालत में किंगफिशर के पूर्व मालिक विजय माल्या की किस्मत का फैसला आज होगा

  • Updated on 7/2/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। किंगफिशर के पूर्व मालिक विजय माल्या की किस्मत का फैसला आज ब्रिटेन की अदालत में किया जायेगा। हाल ही में ब्रिटेन के गृह सचिव साजिद जाविद (UK home secretary Sajid Javid) ने एक आदेश जारी कर उन्हें भारत भेजने का प्रस्ताव रखा जिसमें उनपर धोखाधड़ी और 9,000 करोड़ रुपये की राशि में मनी लॉन्डरिंग के आरोपों की सुनवाई की जा सकें। इस आदेश के खिलाफ विजय माल्या ने एक अपील करने की अनुमति मांगी हैं जिसकी सुनवाई आज 2 जुलाई, 2019 को लंदन(London) में रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस (Royal Courts of Justice) के प्रशासनिक न्यायालय में दो डिवीज़न बेंच द्वारा की जाएगी।

बलात्कारी-हत्यारे राम रहीम ने विवाद बढ़ने के बाद पैरोल की अर्जी वापस ली

सुनवाई का मुद्दा

सूत्रों के अनुसार, विजय माल्या को भारतीय बैंकों का नौ हजार करोड़ रुपये का कर्ज लेकर भाग जाने पर दो जुलाई तक ब्रिटेन में बने रहने की मोहलत मिली थी। इसी बीच गृह सचिव साजिद जाविद ने आदेश जारी कर उन्हें भारत भेजकर उनके मुकदमे की सुनवाई भारत में करने का आदेश दे दिया था। विजय माल्या ने एक अपील कर उनको लंदन में रहने की गुजारिश की थी।

मुंबई: जमब्रूंग और ठाकुरवाड़ी लाइन पर पटरी से उतरी मालगाड़ी, कई ट्रेनें रद्द

इस अपील की सुनवाई आज रॉयल कोर्ट ऑफ जस्टिस के प्रशासनिक न्यायालय में होगी। आज दिन भर की सुनवाई में एक तरफ माल्या की कानूनी टीम और दूसरी तरफ भारत सरकार की ओर से क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस (CPS) कई मुद्दों पर बहस करेंगे। इसमें से मुख्य मुद्दें होंगे - विजय माल्या को मुम्बई की आर्थर रोड जेल में भेजा जाए या नहीं और उनपर धोखाधड़ी और 9,000 करोड़ रुपये की राशि में मनी लॉन्डरिंग के आरोपों की सुनवाई।

NH-24 पर हुआ गंभीर हादसा, 3 लोगो की मौत

विजय माल्या की किस्मत का फैसला

गौरतलब है कि दो जुलाई को माल्या की लीगल टीम और ब्रिटेन की क्राउन प्रॉसीक्यूशन सर्विस के सदस्यों की मौखिक सुनवाई में अगर आज विजय माल्या को लंदन उच्च न्यायालय में अपील करने के लिए लीव नहीं दी जाती है, तो कुछ ही दिनों के भीतर विजय माल्या को भारत में प्रत्यर्पित कर दिया जायेगा।

हालांकि अगर विजय माल्या को अपील करने के लिए लीव नही भी मिलती तब भी ऊनके पास सुप्रीम कोर्ट के पास जाने का विकल्प भी होगा। इसके अलावा विजय माल्या के पास फ्रांस के स्ट्रासबर्ग स्थित यूरोपीय कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स के पास भी जाने का विकल्प बचा है। इन दोंनो ही विकल्पों में विजय माल्या उन्हें भारत नहीं भेजने की अपील कर सकते है।

विजय माल्या प्रत्यर्पण के आदेश को ब्रिटेन की हाई कोर्ट में देगा चुनौती

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.