a-lady-who-always-use-to-drink-humans-and-animals-blood-see-the-video

इस महिला की लत को देखकर रह जाएंगे दंग, खाने- पीने की चीजों में करती है खून का इस्तेमाल, देखें Video

  • Updated on 8/9/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अक्सर इंसानों में आपने कई तरह की लत देखी होगी जैसे कुछ लोगों को सीगरेट (Cigrettee) पीने की लत होती है, कुछ लोगों को शराब (Alcohal) की लत होती है, वहीं कुछ को ज्यादा खाने की लत होती है। लेकिन अगर किसी को खून पीने की लत (Addiction Of Blood) हो तो सुनने में ही काफी अजीब लगता है। बता दें कि, एक ऐसी ही महिला है जो अपने आप को दंरिदा तो नहीं कहती है लेकिन उसकी हरकतें देखकर हर कोई बोल उठेगा कि ये तो ड्रैकुला (Dracula) है।

यह शख्स बनना चाहता था पायलेट, सपना पूरा करने के लिए कार को बनाया हेलीकॉप्टर, देखें Viral Video

बचपन से ही इस महिला को खून पीने का है शौक

दरअसल, हम बात कर रहे हैं एक ऐसी महिला की जिसको शुरु से ही खून पीना बहुत पसंद है। 29 वर्षीय मीशैल (Michelle) ने किशोरावस्था (Teenage) में अपने आप को काटने की कोशिश की थी, जिसके बाद उन्होंने कट के दौरान निकले खून का सेवन किया। खून का सेवन करते ही उन्हें इसकी तलब लगी जिसके बाद उन्होंने खून पीना शुरु कर दिया। बता दें कि, मीशैल रोजाना बाजार से सुअर का खून (Pig's Blood) लेकर आती है और इतना खून का सेवन करने के बाद भी उनके लिए ये पर्याप्त नहीं है।

अजब MP की गजब कहानी, भैंस का अपहरण कर बदमाशों ने मांगी लाखों की फिरौती

हर इंसान का होता है अपना एक टेस्ट - मीशैल

मीशैल ना तो सिर्फ सुअर बल्कि हर जानवर के खून का सेवन करती है। उनके इसी अजीबोगरीब ढ़ंग को देखते हुए उन्हें एक शो में आमंत्रित किया गया जहां उन्होंने बताया कि, खून पीना उनका एक शौक है और हर किसी का अपना एक स्वाद होता है इसलिए मै ज्यादा से ज्यादा इंसानों का खून पीना ही पसंद करती हुं।

दरिंदगी: गर्लफ्रेंड का कत्ल कर शरीर के अंगों को बनाया अपना निवाला

जानवरों के साथ-साथ पीती है करीबीयों का खून

उन्होंने आगे बताया कि, वह डायरेक्ट सोर्स यानी की ताजा खून पीना पसंद करती हैं और वो भी सिर्फ तब जब उनके निजी और करीबीयों का ही खून हो। वे कहती है की वह भी एक इंसान हैं ना की कोई खूनी दरिंदा। मीशैल खून पीने की इस हद तक आदि हैं कि वे अपने हर खाने की चीजों और पीनें में खून का इस्तेमाल करती हैं।

साभार - TLC

comments

.
.
.
.
.