Wednesday, Apr 01, 2020
apply-this-therapy-to-remove-coronavirus

कोरोना वायरस को दूर भगाने में कारगर साबित हो सकती है ये थेरेपी

  • Updated on 3/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देशभऱ में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा हैं। इस वायरस के कारण भारत (India) में करीब 200 से ज्यादा लोग संक्रमित है, वहीं अब तक 5 लोगों की जान जा चुकी हैं। इस बीच वायरस से निपटने के लिए  अब नई तरकीब सामने आई है, तो आइये जानते है इसके बारे में..

UP के इस गांव में लोगों ने किया गाय के बछड़े का मुंडन

दिनेश दोशी ने किए कई प्रयोग

Dinesh Doshi

दरअसल दिनेश दोशी नाम के एक व्यक्ति से जब मिलोगे तब आप यह कभी भी महसूस नहीं करोगे कि उनकी आयु 85 वर्ष की है। उनके चेहरे से उम्र नहीं झलकती। आखिर इसका सीक्रेट क्या है? पिछले 30 वर्षों से दोशी यूरिन थैरेपी अपना रहे हैं। वह फुल टाइम यूरिन थैरेपिस्ट के तौर पर अपनी सेवाएं भी दे रहे हैं। इसके माध्यम से वह लोगों का उपचार भी कर रहे हैं इसके लिए वह एक पैसा भी नहीं लेते क्योंकि उनका कहना है कि यह उनका जुनून है, व्यवसाय नहीं। पेशे से एक कारोबारी कोलकाता (Kolkata) तथा चेन्नई में रहने के बाद मुम्बई (Mumbai) में शिफ्ट हुए हैं। रिटायरमैंट के बाद वह पार्टटाइम स्टॉक ट्रेडर के तौर पर काम कर रहे हैं। अपना ज्यादातर समय यूरिन थैरेपी पर शोध करने तथा पढऩे पर बिताते हैं। इसके तहत उन्होंने कई प्रयोग भी किए हैं।

लाइव स्लीपिंग वीडियो के जरिए भी आप बन सकते हैं मालामाल

Urine Therappyयूरिन थेरेपी के लिए वह भारत के दिवंगत प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई (Morarji Desai) को आदर्श मानते हैं। उल्लेखनीय है कि मोरारजी देसाई इस थैरेपी का प्रयोग करते रहे हैं। दोशी ने मोरारजी देसाई के एक साक्षात्कार से इस थैरेपी जिसे कि शिवांबू भी कहा जाता है, के बारे में सीखा। जब उन्होंने 30 साल पूर्व इसको अपनाया तो उन्होंने अपने शरीर में चमत्कारिक बदलाव पाया। इससे वह फिट तथा ऊर्जा से भरे दिखे। उनका मानना है कि वह कभी भी बीमार नहीं पड़े।

Coronavius: चिकन-मटन को छोड़ लोग खा रहे ‘कटहल’

Urine Therappy

दरियाई नारियल के पेड़ पर 126 साल बाद आए फल

यूरिन थेरेपी (Urine Therapy) के भरोसे उन्होंने अपने स्वास्थ्य बीमा को भी नकार दिया। पिछले 3 दशकों के दौरान उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई बीमारी नहीं हुई। जब उनसे कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी के बारे में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि यदि आप प्रत्येक सुबह एक गिलास अपना पेशाब पीएंगे तो कोरोना वायरस आपको नुक्सान नहीं पहुंचाएगा। 

comments

.
.
.
.
.