Tuesday, Jun 22, 2021
-->
this tree has been imprisoned since 121 years not getting bail

121 वर्षों से कैद है यह पेड़, नहीं मिल रही मुक्ति

  • Updated on 11/2/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत ( India) लंबे समय तक अंग्रेजों   के चंगुल में फंसा रहा है। अंग्रेजों ने मनमाने ढंग से हमारे देशवासियों पर जुल्म किया और इसका सबूत हमारा इतिहास है। देश की आजादी (Freedom) के लिए अनेक लोगों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी। अंग्रेज हुकूमत करते हुए हमारे देशवासियों को गिरफ्तार कर जेल में डाल देते है। लोगों का गिरफ्तार करना समझ में आ सकता है लेकिन क्या आप इस बात पर यकीन कर पाएंगे कि किसी पेड़ की गिरफ्तारी हुई है। पेड़ की गिरफ्तारी के बारे में सोचना आपके लिए मुश्किल होगा लेकिन आज हम आपको बताते है कि एक ऐसा भी पेड़ है जो 121 वर्षों से कैद पड़ा है।

कुत्ते ने चलाई बाइक, वीडियो हुआ वायरल

यह है पूरी कहानी

अंग्रेजों के जुल्म की कहानी को यह पेड़ बयान करती  है।  यह पेड़ साल 1898 से कैद है, यह बात तब की है जब पाकिस्तान भारत से अलग नहीं था और भारत अंग्रेजो के कब्जे में कैद था। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह स्थित लंडी कोटल आर्मी कैंटोनमेंट में तैनात एक ब्रिटिश अफसर  ने एक दिन शराब पी कर कुछ ऐसा किया जो उसके मूर्खता को बताने के लिए काफी है। नशे में अंग्रेज अफसर पार्क में घूम रहा था और अचानक उसे लगा कि पेड़ उसके तरफ आ रहा है। यह सोचकर उसने पेड़ को गिरफ्तार कर लिया ताकि पेड़ उसकी हत्या न कर दे।इसके बाद उसने तुरंत मैस के सार्जेंट को ऑर्डर दिया कि इस पेड़ को तुरंत अरेस्ट कर लिया जाए क्योंकि यह उसके जान का दुश्मन है। इसके बाद वहां तैनात सिपाहियों ने पेड़ को जंजीरों में गिरफ्तार कर लिया।

आपकी छोटी उंगली है बड़ी खतरनाक, खोल देती है आपके राज

आजादी के बाद भी कैद है यह पेड़

पाकिस्तान आजाद होने के बाद भी पेड़ को जंजीरों से नहीं मुक्त किया। वहां के लोगों की माने तो यह पेड़ अंग्रेजों के जुल्म का एक सबूत है। इसे देखकर लोगों को इस बात का हमेशा अंदाजा रहेगा कि अंग्रेजों ने किस हद तक हमलोगों पर जूल्म किया। लोगों ने पेड़ पर एक तख्ती भी लटका दी है जिसपर लिखा है 'I am Under arrest'।

comments

.
.
.
.
.