Saturday, Jun 25, 2022
Mobile Menu end -->
वायु प्रदूषण नहीं सुधरा तो भारत के करोड़ों लोग गंवा सकते हैं जिंदगी के कई साल 

वायु प्रदूषण नहीं सुधरा तो भारत के करोड़ों लोग गंवा सकते हैं जिंदगी के कई साल 

स्पेशल स्टोरी

दिल्ली सहित उत्तर भारत में वायु प्रदूषण का मौजूदा स्तर अगर इसी तरह रहा तो यहां रह रहे 51 करोड़ लोग जीवन के सात साल तक गंवा सकते हैं। यह दावा एक अध्ययन रिपोर्ट में करते हुए कहा गया है कि देश में मानव स्वास्थ्य के लिए प्रदूषण सबसे बड़ा खतरा है। मंगलवार को भी दिल्ली में जहां वायु गुणवत्ता सूचकांक 222 क

Share Story
  • ‘दिल्ली के प्रदूषण की समस्या का मार्च के दूसरे हफ्ते में मिलेगा हल’

    ‘दिल्ली के प्रदूषण की समस्या का मार्च के दूसरे हफ्ते में मिलेगा हल’

    राजधानी में बीते दशक में प्रदूषण की समस्या बढ़ती जा रही है। खासकर नवम्बर दिसम्बर में यह अपने चरम पर होती है। जब एक्यूआई 400 का सूचकांक पार कर जाता है। केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव ने कहा कि दिल्ली में वायु प्रदूषण की जो समस्या है वह बड़ी है हम इस पर काम कर रहे हैं।

  • 2021 के 365 में केवल 29 दिन ही स्वच्छ हवा ले सके राजधानी वासी 

    2021 के 365 में केवल 29 दिन ही स्वच्छ हवा ले सके राजधानी वासी 

    राजधानी में 2050 के बाद जनवरी 2022 में सर्वाधिक बारिश भी दिल्ली के वातावरण को सांस लेने योग्य स्वच्छ नहीं बना सकी। राजधानी में रहने वाले लोगों को पूरे वर्ष में मिलने वाले कुल सांस लेने योग्य दिनों की बात करें तो यह 2019 में 23 दिन, 2020 में 50 दिन व 2021 में मात्र 29 दिन रहे हैं...

  • आईआईटी दिल्ली सेंसर्स सामने लाएंगे वायु गुणवत्ता की असल तस्वीर

    आईआईटी दिल्ली सेंसर्स सामने लाएंगे वायु गुणवत्ता की असल तस्वीर

    राजधानी में सर्दियां आते ही वायु गुणवत्ता अति गंभीर श्रेणी में चली जाती है। लेकिन हमें दिल्ली के हर स्थान का रेगुलर वायु गुणवत्ता डेटा नहीं मिल पाता। आईआईटी दिल्ली एक प्रोजेक्ट के जरिए लोगों के घरों में लगे वाई फाई सिस्टम से सेंसर्स को जोडक़र रियल टाइम वायु गुणवत्ता डेटा का कलेक्शन करेगा...

  • कई इलाकों में गंभीर है प्रदूषण स्तर, बेहद खराब हवा हुई दर्ज 

    कई इलाकों में गंभीर है प्रदूषण स्तर, बेहद खराब हवा हुई दर्ज 

    दिल्ली में वीरवार को अधिकांश इलाके डार्क रेड जोन में पहुंच गए जबकि औसत 24 घंटे का वायु गुणवत्ता सूचकांक 387 रहा। प्रदूषण के मुख्य कारणों में पीएम-2.5 और पीएम-10 ही रहा और सभी 34 निगरानी केंद्रों पर कई इलाकों मेें बहुत खराब और खराब रिकार्ड हुआ। शुक्रवार को भी प्रदूषण बेहद खराब रहने के अनुमान हैं और र

  • हवा का स्तर है बेहद खराब, सर्दी में प्रदूषण से लेागों को हो रही है परेशानी 

    हवा का स्तर है बेहद खराब, सर्दी में प्रदूषण से लेागों को हो रही है परेशानी 

    चार दिन लगातार प्रदूषण स्तर से राहत के बाद सोमवार को फिर से बेहद खराब वायु गुणवत्ता सूचकांक दर्ज किया गया। हालंाकि दिल्ली में कोरेाना पाबंदियां लागू हैं और इससे सड़कों पर वाहनों की संख्या में कमी है इसके बावजूद आज हवा का स्तर 327 रहा जो कि बेहद खराब श्रेणी में है। 

  • नए साल का स्वागत प्रदूषण के साथ, बेहद खराब है हवा का स्तर 

    नए साल का स्वागत प्रदूषण के साथ, बेहद खराब है हवा का स्तर 

    साल का पहला दिन प्रदूषण के लिहाज से बेहद खराब श्रेणी में दर्ज हुआ और वैज्ञानिकों की माने तो रविवार को भी पीएम-2.5 का स्तर बढ़ा रहेगा जिससे प्रदूषण स्तर भी बेहद खराब श्रेणी के आसपास ही रहेगा। शनिवार की सुबह से ही वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहद खराब श्रेणी में था और औसत एक्यूआई-362 रहा जो कि शाम तक बढ़कर

  • बरसात से धुला प्रदूषण, हवा साफ होकर हुई खराब 

    बरसात से धुला प्रदूषण, हवा साफ होकर हुई खराब 

    दिल्ली में बरसात से प्रदूषण धुल गया और आज खिली धूप से वायु गुणवत्ता सूचकांक गिरकर खराब श्रेणी में आ गया। हालंाकि कई इलाकों में यह बेहद खराब भी रहा लेकिन अगले दो दिन अभी हवाओं की रफ्तार धीमी ही रहेगी जिससे प्रदूषक तत्व हवा में रहेंगे और प्रदूषण स्तर भी बेहद खराब व खराब ही रहेगा।