Tuesday, Dec 06, 2022
Mobile Menu end -->
‘चैरिटी’ का उद्देश्य धर्मांतरण नहीं होना चाहिएः सुप्रीम कोर्ट

‘चैरिटी’ का उद्देश्य धर्मांतरण नहीं होना चाहिएः सुप्रीम कोर्ट

स्पेशल स्टोरी

धर्मार्थ कार्य (चैरिटी) का उद्देश्य धर्मांतरण नहीं होने पर बल देते हुए उच्चतम न्यायालय ने एक बार फिर सोमवार को कहा कि जबरन धर्मांतरण एक ‘गंभीर मुद्दा’ है और यह संविधान केविरुद्ध है। शीर्ष न्यायालय वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय की याचिका पर सुनवाई कर रहा है।

Share Story