Thursday, Sep 23, 2021
Mobile Menu end -->
प्रदर्शनकारी किसानों को नहीं हटाने के लिए अधिकारियों के खिलाफ अवमानना याचिका दायर

प्रदर्शनकारी किसानों को नहीं हटाने के लिए अधिकारियों के खिलाफ अवमानना याचिका दायर

स्पेशल स्टोरी

उच्चतम न्यायालय में बुधवार को केंद्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब के कुछ शीर्ष अधिकारियों के खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू करने की मांग के साथ आरोप लगाया गया

Share Story
  • तकरार : किसानों ने दिखाए तेवर, विरोध में बाजार बंद

    तकरार : किसानों ने दिखाए तेवर, विरोध में बाजार बंद

    नई दिल्ली/टीम डिजीटल। सरकारी तंत्र की भरसक कोशिशों के बावजूद लोनी में आंदोलनरत किसानों ने पीछे हटने से साफ इंकार कर दिया है। धरनास्थल के आस-पास विरोध स्वरूप खोदे गए नए गड्ढों को जबरन भरवा दिए जाने और देर देर विद्युत आपूर्ति बाधित होने से खफा किसानों ने रविवार को आक्रामक तेवर दिखाए। मंडोला गांव में द

  • मंडियां ढहने की राह पर, किसान विरोधी कॉर्पोरेट समर्थक हैं कानून: संयुक्त किसान मोर्चा 

    मंडियां ढहने की राह पर, किसान विरोधी कॉर्पोरेट समर्थक हैं कानून: संयुक्त किसान मोर्चा 

    तीन किसान विरोधी, कॉर्पोरेट समर्थक कानूनों के बाद मोदी सरकार के मंडी बने रहने के लंबे दावों को खारिज करते हुए विभिन्न राज्यों में मंडियां ढहने की राह पर हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने यह दावा करते हुए कहा कि इसीलिए विभिन्न राज्यों में भाजपा नेताओं का विरोध किया जा रहा है  और अब  यह केवल पंजाब और हरिया

  • जीवित समाधि में किसान : दूसरे दिन भी डटे रहे, वार्ता का न्यौता

    जीवित समाधि में किसान : दूसरे दिन भी डटे रहे, वार्ता का न्यौता

    नई दिल्ली/टीम डिजीटल। लोनी क्षेत्र में अधिग्रहित भूमि का मुआवजे के लिए आंदोलनरत 16 किसान वीरवार को भी समाधि स्थल पर डटे रहे। किसानों ने जीवित समाधि लेने को खोदे गए गहरे गड्ढों में रहकर पूरा दिन गुजारा। इस बीच कुछ पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी वहां पहुंचे। इन अधिकारियों ने कृषकों से वार्ता की।

  • आंदोलन पर अन्नदाता : 16 किसानों ने जीवित समाधि ली

    आंदोलन पर अन्नदाता : 16 किसानों ने जीवित समाधि ली

    नई दिल्ली/टीम डिजीटल। अधिग्रहित भूमि का पर्याप्त मुआवजा न मिलने से नाराज 16 किसानों ने बुधवार को लोनी क्षेत्र में जीवित समाधि ले ली। मांग पूरी होने तक उन्होंने समाधि स्थल को नहीं छोड़ने का ऐलान किया है। 22 वर्ष से लेकर 72 वर्ष आयु तक के किसानों ने अपनी तरह का यह अनूठा विरोध शुरू किया है। इस बीच सरका