Friday, Dec 02, 2022
Mobile Menu end -->
 मन का बंटवारा रोकना जरूरी: डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी

मन का बंटवारा रोकना जरूरी: डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी

स्पेशल स्टोरी

विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस को लेकर कई तरह के आयोजन सरकार एवं संघ समर्थित संगठन और भाजपा के तत्वावधान में हो रहे हैं। इसी कड़ी में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र ने दो दिवसीय फिल्म स्क्रीनिंग का उद्घाटन किया। साथ ही बंटवारे विषय पर आधारित शार्ट फिल्म एवं डाक्यूमेंटी

Share Story
  • आईजीएनसीए में शुरू हुआ 7 दिवसीय वैदेही अंतर्राष्ट्रीय उत्सव

    आईजीएनसीए में शुरू हुआ 7 दिवसीय वैदेही अंतर्राष्ट्रीय उत्सव

    इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में सीता नवमी के अवसर पर 7 दिवसीय वैदेही अंतर्राष्ट्रीय उत्सव की शुरूआत की गई है। इस उत्सव में सीता के विभिन्न रूपों की 100 से अधिक पेंटिग्स 16 मई तक कला प्रेमी देख सकेंगे। जनपथ होटल में आयोजित हो रहे इस उत्सव में नाटक व फैशन शो का भी आयोजन किया जा रहा है।

  • आए री मायावी पिया... और रसिया आयो ना... ने श्रोताओं का मोहा मन

    आए री मायावी पिया... और रसिया आयो ना... ने श्रोताओं का मोहा मन

    आईजीएनसीए में कार्य मंजरी अनसारे ने एक के बाद एक विलंबित राग शुद्ध कल्याण में आए री मायावी पिया... और तीन ताल द्रूत में बतिया दौरावत सुनाया। इसके बाद आनंद भाटे ने राग मारू बिहाग में रसिया आयो ना... सुनाया तो श्रोता देर तक आरोह अवरोह के साथ झूमते रहे।

  • IGNCA : ऐसा भी कोई सपना जागे...सुन श्रोता हुए निमग्न

    IGNCA : ऐसा भी कोई सपना जागे...सुन श्रोता हुए निमग्न

    इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र(आईजीएनसीए) की ओर से आयोजित 3 दिवसीय कार्यक्रन ‘जो भजे हरि को सदा’ के दूसरे दिन पहली संगीत सभा में प्रातःकालीन रागों की अद्भुत प्रस्तुतियां हुईं। इस सभा का मंच पंडित अंबरीश दास और विदुषी पूर्णिमा धूमाले जैसे शानदार गायकों ने संभाला...

  • आईजीएनसीए में 25 से शुरू होगा ईशान मंथन, दिखेगी नॉर्थ ईस्ट की संस्कृति

    आईजीएनसीए में 25 से शुरू होगा ईशान मंथन, दिखेगी नॉर्थ ईस्ट की संस्कृति

    आईजीएनसीए में 25 से लेकर 27 मार्च तक ईशान मंथन कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में पूवोत्तर के राज्यों की संस्कृति, शिल्प व खाद्य संस्कृति को प्रदर्शित किया जाएगा। आईजीएनसीए के एक अधिकारी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत ईशान मंथन का आयोजन किया जा रहा है।

  • आईजीएनसीए में लगी वैदिक, भक्ति काल से लेकर आजादी तक महिलाओं का इतिहास बताती प्रदर्शनी

    आईजीएनसीए में लगी वैदिक, भक्ति काल से लेकर आजादी तक महिलाओं का इतिहास बताती प्रदर्शनी

    भारत की महान विभूति रहीं नारियों के इतिहास को लेकर आईजीएनसीए एक प्रदर्शनी लेकर आया है। इस प्रदर्शनी में वैदिक काल, भक्ति काल और स्वतंत्रता संग्राम तक महिलाओं के असाधारण योगदान को सामने लाया गया है। शक्ति पर्व के नाम से लगी यह प्रदर्शनी 21 मार्च तक दर्शकों के अवलोकन के लिए खुली रहेगी।

  • देश-दुनिया में एक ऐसा वर्ग है जो भ्रमजाल में फंसे रहना चाहता है और उसको असत्य से भी परहेज नहीं:भागवत

    देश-दुनिया में एक ऐसा वर्ग है जो भ्रमजाल में फंसे रहना चाहता है और उसको असत्य से भी परहेज नहीं:भागवत

    आरएसएस सरसंघ चालक मोहनराव भागवत ने कहा कि मेरे मन में भी शंका है कि क्या पुस्तक के प्रकाशित होने से सरस्वती थी या नहीं यह विवाद थमेगा, ऐसा मुझे नहीं लगता है। क्योंकि जिन्हें विवाद करना है, उन्हें करना ही है। उन्होंने कहा कि 1875 के बाद जब अंग्रेजों ने देखा कि इस देश को योग्य अवसर मिलते ही हमारे खिला

  • संस्कृति मंत्रालय ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

    संस्कृति मंत्रालय ने मनाया अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

    आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में संस्कृति मंत्रालय ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए) और यूनेस्को नई दिल्ली क्लस्टर कार्यालय के सहयोग से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद में अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर दो दिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत की।