Thursday, Aug 18, 2022
Mobile Menu end -->
एनवीएलआई में मौजूद हैं 3.04 लाख डिजिटल कलाकृतियां व 34.91 लाख ग्रंथ : रेड्डी

एनवीएलआई में मौजूद हैं 3.04 लाख डिजिटल कलाकृतियां व 34.91 लाख ग्रंथ : रेड्डी

स्पेशल स्टोरी

एनवीएलआई को भारत की मूर्त और अमूर्त सांस्कृतिक विरासत के सभी रूपों को प्रदर्शित करने के लिए 10 दिसंबर 2019 को भारतीय संस्कृति पोर्टल (आईसीपी) के रूप में विकसित और लॉन्च किया गया था। ये पब्लिक डोमेन में उपलब्ध है जिसमें में कुल 3.04 लाख डिजिटल कलाकृतियां व 34.91 लाख से अधिक ग्रंथ सूची प्रविष्टियां भी

Share Story
  •  अरविन्द कुमार मिश्रा को बाणभट्ट सम्मान

    अरविन्द कुमार मिश्रा को बाणभट्ट सम्मान

    ऊर्जा व पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य कर रहे अरविन्द कुमार मिश्रा को बाणभट्ट सम्मान 2021 से सम्मानित किया गया है। यह सम्मान लोक कलाओं को समृद्ध करने में जुटी उत्थान सामाजिक सांस्कृतिक एवं साहित्यक संस्था एवं इंद्रवती नाट्य समिति सीधी मध्यप्रदेश द्वारा प्रदान किया गया है।

  • विश्व में फैली है भारतीय साहित्य व संस्कृति:वक्ता

    विश्व में फैली है भारतीय साहित्य व संस्कृति:वक्ता

    गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में  ''गणतंत्र भारत की साहित्यिक एवं सांस्कृतिक व्यापकताÓ विषय पर वेबीनार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर भारत के अलावा 12 अन्य देशों के वक्ताओं ने अपने विचारों को व्यक्त करते हुए कहा कि भारत की संस्कृति और साहित्य विश्व भर में फैला हुआ है। उत्थान फाउंडेशन के तत्वावधान में अंत

  • नदियां भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति की संवाहक हैं : प्रो. हरित्मा चोपड़ा

    नदियां भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति की संवाहक हैं : प्रो. हरित्मा चोपड़ा

    नदियां भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति की संवाहक हैं। नदी को जानो अभियान से जुडक़र हम सभी न केवल नदियों के बारे में विशेष जानकारी प्राप्त करने सफल होंगे अपितु हमारे ऋषि-महर्षियों द्वारा प्रदत्त पारम्परिक ज्ञान में समाहित विज्ञान को भी भलीभांति समझ सकेंगे। नदी के जल में तांबे के सिक्के को डालना अथवा अस्थिय

  •  संस्कृति व त्योहारों से जुड़कर देश को मिलेगी आर्थिक मदद : एसजेएम

    संस्कृति व त्योहारों से जुड़कर देश को मिलेगी आर्थिक मदद : एसजेएम

    स्वदेशी जागरण मंच(एसजेएम) दिल्ली प्रांत महिला प्रकोष्ठ द्वारा मकर संक्रांति के उपलक्ष्य में आयोजित एक वर्चुअल बैठक में मकर संक्रांति उत्सव एवं भारतीय अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर चर्चा हुई। बैठक में कहा गया कि अर्थव्यवस्था और त्योहारों का आपस में गहरा नाता है। 

  • भारतीय संस्कृति, जैन जीवन शैली कोरोना से बचाव में रही कारगर: मनसुख मांडविया 

    भारतीय संस्कृति, जैन जीवन शैली कोरोना से बचाव में रही कारगर: मनसुख मांडविया 

    भारतीय संस्कृति, रीति-रिवाज, खानपान, हमारी प्राचीन परम्पराएं, जैन जीवन शैली आदि कोरोना जैसी महामारी से बचाव कर स्वस्थ रखने में बहुत मददगार साबित हुई हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडविया ने अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य लोकेश से भेंट में यह विचार व्यक्त करते हुए कहा कि इस समय भारत का