Thursday, Sep 29, 2022
Mobile Menu end -->
देश-दुनिया में एक ऐसा वर्ग है जो भ्रमजाल में फंसे रहना चाहता है और उसको असत्य से भी परहेज नहीं:भागवत

देश-दुनिया में एक ऐसा वर्ग है जो भ्रमजाल में फंसे रहना चाहता है और उसको असत्य से भी परहेज नहीं:भागवत

स्पेशल स्टोरी

आरएसएस सरसंघ चालक मोहनराव भागवत ने कहा कि मेरे मन में भी शंका है कि क्या पुस्तक के प्रकाशित होने से सरस्वती थी या नहीं यह विवाद थमेगा, ऐसा मुझे नहीं लगता है। क्योंकि जिन्हें विवाद करना है, उन्हें करना ही है। उन्होंने कहा कि 1875 के बाद जब अंग्रेजों ने देखा कि इस देश को योग्य अवसर मिलते ही हमारे खिला

Share Story