Monday, Oct 03, 2022
Mobile Menu end -->
ज़ू कीपर्स : बेजुबान वन्यजीवों की जो समझते हैं बात

ज़ू कीपर्स : बेजुबान वन्यजीवों की जो समझते हैं बात

स्पेशल स्टोरी

कभी आपने सोचा कि इन बड़े जीवों को हैंडल करने के लिए कौन सेवाएं देता है और किस तरह वो प्रत्यक्ष रूप से इन वन्यजीवों के साथ जुड़ा होता है? इन बेजुबान वन्यजीवों की खुशी, गम व उदासी से लेकर बीमारी तक को कैसे समझता होगा? तो आइए आज वल्र्ड वाइल्डलाइफ एक्ट डे पर हम इन्हीं ज़ू कीपर्स के बारे में बात करते हैं

Share Story
  • असोला भाटी वाइल्ड लाइफ में बढऩे लगी है पशुओं व पक्षियों की संख्या

    असोला भाटी वाइल्ड लाइफ में बढऩे लगी है पशुओं व पक्षियों की संख्या

    दिल्ली सरकार के वन विभाग व वन्यजीवों के संरक्षण में लगी संस्थाओं के निरंतर प्रयास से ही सूखी व कठोर कही जाने वाली अरावली पर्वत श्रृंख्ला में बसे असोला भाटी वाइल्ड लाइफ में दोबारा से वन्यजीवों की संख्या में इजाफा होने लगा है। सबसे अच्छी बात यह है कि कई ऐसे पशु लगातार दिखाई दे रहे हैं और उनकी संख्या ब

  • गर्मी ने बदला चिडिय़ाघर का मैन्यू, अब जानवरों को दिया जा रहा है ग्लूकोज

    गर्मी ने बदला चिडिय़ाघर का मैन्यू, अब जानवरों को दिया जा रहा है ग्लूकोज

    गर्मी के चलते सभी लोग परेशान है, हाल यह है कि कोई भी एयरकंडीश्नर व कूलर से दूर नहीं जाना चाहता है। ऐसे में चिडिय़ाघर में रहने वाले जानवरों को गर्मी में परेशानी ना हो उसके लिए उनके मैन्यू में परिवर्तन कर दिया गया है। यही नहीं गर्मी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए उनके बाड़े में पहले से ही कूलर व पंखों की